मनरेगा कार्यों के रोजगार मांग प्रपत्र में, कोरोना से बचाव सम्बंधित बिंदु को किया शामिल

आलोक मिश्रा, ब्यूरो हेड बलौदाबाजार

राज्य का पहला जिला मनरेगा में इस तरह प्रयोग करने वाला
बालौदाबाजार: जिला कलेक्टर कार्तिकेय गोयल के नेतृत्व में मनरेगा पर एक और नया प्रयोग करने जा रहा है।मनरेगा कार्यों के रोजगार मांग प्रपत्र में कोरोना से बचाव सम्बंधित बिंदु को शामिल किया गया है। पूरे राज्य में मनरेगा में इस तरह प्रयोग करने वाला पहला जिला हो गया है।

गौरतलब है कि वर्तमान में जिले के 615 ग्राम पंचायतों मे लगभग 93 हजार से अधिक श्रमिको को मनरेगा के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। वर्तमान में मनरेगा के जरिये रोजगार उपलब्ध कराने में जिला का स्थान पंचायत संख्या के अनुसार राज्य में पहले नंबर पर है।

जिला पंचायत सीईओ आशुतोष पाण्डेय ने बताया कि लोगों को कोरोना से बचाव एवं रोजगार उपलब्ध कराना हमारी पहली प्राथमिकता है। इसलिए जिला प्रशासन पूरी मेहनत से इस दिशा में कार्य कर रही है।

वर्तमान मे कोरोना महामारी से बचाव के लिए जिला पंचायत द्वारा रोजगार मांग हेतु एक प्रपत्र तैयार किया गया है। जिसमे श्रमिको से कार्य करने के पूर्व सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन, कार्य स्थल पर मास्क या व्यक्तिगत सूती तोलिया, हाथ धोने हेतु साबुन के साथ अन्य सुरक्षात्मक उपाय का उल्लेख है।

आवश्यक सुरक्षात्मक उपाय के साथ कार्य की मांग करने वाले पंजीकृत श्रमिको को ही रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। निश्चित रुप से इस पत्रक के तैयार करने से कोरोना के सम्बन्ध मे जागरुकता आयेगा। कोरोना वायरस जैसे इस महामारी के समय में मनरेगा योजना ग्रामीण इलाको मे एक संजीवनी साबित हो रही है।

कलेक्टर गोयल के निर्देश पर योजना के क्रियान्वयन एवं कार्यो में बेहतर गुणवत्ता लाने हेतु जिला पंचायत टीम द्वारा कार्य स्थलो का लगातार निरीक्षण किया जा रहा है। पूरे जिला में अलग अलग टीमों के माध्यम से इसका मॉनिटरिंग किया जा रहा है।

सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों, कोरोना से बचाव सम्बंधित उपायों को देखने एवं सुनिश्चित करने के लिए जिला पंचायत सीईओ आशुतोष पाण्डेय सुबह से ही कार्य स्थलो के निरीक्षण के लिए निकल जाते है। उनके साथ अतिरिक्त जिला पंचायत सीईओ हरिशंकर चौहान एवं मनरेगा के सहायक परियोजना अधिकारी प्रभारी के के साहू भी कार्य स्थल पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन, मास्क, व्यक्तिगत सूती तोलिया, गमछा,साबुन और पानी, कार्य स्थल पर स्वयं के औजारो के उपयोगिता को सुनिश्चित किया जा रहा है। कार्य स्थल पर कार्य समाप्ति के बाद नहा कर घर जाने के लिए भी लोगो को जागरूक किया जा रहा है |

Tags
Back to top button