छत्तीसगढ़

एनएच-43 में विधायक ने पकाई खिचड़ी, लगाया रोपा

रोड की हालत खस्ता, अफसरों पर भड़के एसडीएम

– रोशन सोनी

अंबिकापुर। अंबिकापुर-प्रतापपुर मार्ग कीचड़ में हो चुका है तब्दील, उक्त मार्ग से गुजरने वाले लोगों को हो रही है परेशानी को देखते हुए लुड्रा विधायक चिंतामणि महराज किया प्रदर्शन। उन्होंने एनएच-43 में विधायक ने पकाई खिचड़ी और रोपा लगा कर विरोध प्रदर्शन किया।

बता दें कि सरगुजा सड़क विकास निगम के अधिकारियों व ठेकेदार की लापरवाही के कारण अंबिकापुर-प्रतापपुर मार्ग कीचड़ में तब्दील हो गया है। इस मार्ग के निर्माण में लेटलतीफी से लोगों को हो रही परेशानियों को लेकर शुक्रवार को पुष्पवाटिका के समीप ग्रामीणों ने लुण्ड्रा विधायक के नेतृत्व में चक्काजाम कर विरोध जताया। इस दौरान विधायक ने कीचड़ से सनी सड़क पर बैठकर ग्रामीणों के साथ खिचड़ी पकाई। उन्होंने रमन सरकार के खिलाफ नारे भी लगाए।

वहीं मौके पर पहुंचे सड़क विकास निगम के अधिकारियों ने विधायक के सामने अपनी गलती स्वीकार की लेकिन ठेकेदार अभी भी अड़ियल रवैय्या अपनाते हुए बारिश होने का रोना रोते रहे। वहीं काम जल्द पूरा नहीं होने पर कांग्रेसियों ने उग्र आंदोलन की चेतावनी भी दी।

अंबिकापुर-प्रतापपुर मार्ग की जर्जर स्थिति को देखते हुए सरकार ने इसके निर्माण के लिए 63.21 करोड रुपए स्वीकृत कर सड़क विकास निगम को इसकी जिम्मेदारी दी थी। इसके बावजूद अधिकारियों द्वारा लगातार सड़क निर्माण की मॉनीटरिंग में कोताही बरती गई। इसका खामियाजा अब बारिश के दौरान इस मार्ग से गुजरने वालों के साथ-साथ सरगंवा, सकालो सहित अन्य गांव के लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

घंटों रहा चक्का जाम
ग्रामीणों की बढ़ती हुई परेशानियों को देखते हुए लुण्ड्रा विधायक चिंतामणी महाराज व जिला पंचायत सदस्य राकेश गुप्ता के नेतृत्व में शुक्रवार की सुबह 9 बजे सरगंवा व सकालो के ग्रामीणों ने पुष्पवाटिका के सामने कीचड़ से सनी सड़क पर बैठकर चक्काजाम कर दिया तथा चुल्हा जलाकर खिचड़ी पकाई। विधायक ने ग्रामीणों के साथ मिलकर धान का रोपा भी लगाया। इससे आवागमन पूरी तरह से अवरूद्ध हो गया।

चक्काजाम की सूचना मिलते ही एसडीएम अजय त्रिपाठी व सीएसपी आरएन यादव पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। उन्होंने कीचड़ में बैठे विधायक व अन्य लोगों को उठाने के काफी प्रयास किए लेकिन वे नहीं माने। इस दौरान संजय सिंह, अख्तर हुसैन, आशीष वर्मा सहित काफी संख्या मे ग्रामीण उपस्थित थे।

अधिकारियों पर विधायक ने जताई नाराजगी
अधिकारियों से जब एसडीएम ने पूछा कि तत्काल में ग्रामीणों को राहत दिलाने के लिए क्या कर सकते हैं, सिर्फ आश्वासन से काम नहीं चलेगा। अधिकारियों ने अपनी गलती मानते हुए कहा कि जब लुण्ड्रा विधायक के पास समय होगा तब मरम्मत से संबंधित योजना उनसे मिलकर बता देंगे।
इसपर विधायक ने कहा कि हमारे पास तो समय ही समय है। हम तो ग्रामीणों के साथ हैं, उन्हें कुछ परेशानी होगी तो उनके साथ सड़क पर खड़े नजर आएंगे। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि जब आपके पास समय होगा तो हम सभी आपके कार्यालय पहुंच जाएंगे।

एसडीएम ने लगाई फटकार, कहा- ग्रामीण भड़के तो…
एसडीएम ने सड़क का काम देख रहे मेसर्स लाइन इंजीनियरिंग कंसलटेंट कम्पनी के अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। इसके साथ ही उन्होंने सड़क विकास निगम की इंजीनियर रश्मि वैश्य की भी क्लास विधायक के समक्ष ली।
उन्होंने कहा कि आप सभी अच्छा काम कर रहे हैं, अगर कोई काम नहीं कर रहा है तो वे हैं प्रशासनिक अधिकारी। अगर ग्रामीण आपके कामों को देख सड़क पर आ गए तो आपका यहां कोई काम नहीं रह जाएगा। लोगों को तत्काल राहत पहुंचाने का काम करें।

टेक्निकल विभाग की ही नहीं है जरूरत
एसडीएम ने काफी सख्त लहजे में कहा कि जब शासन व ठेकेदार ही पूरा काम देख लेंगे तो फिर हम सभी की कोई आवश्यकता नहीं है। शासन बजट स्वीकृत करती है और ठेकेदार काम करता है। ऐसे में टेक्रि कल विभाग की कोई आवश्यकता नहीं है।