सिम्स में मरीजों को बहला फुसलाकर ले जाता था प्राइवेट हॉस्पिटल

भरत मंगवानी:

बिलासपुर: सिम्स में आये दिन मरीजो को को निजी अस्पताल भेजा जाता है। मरीजो को बहला फुसलाकर एक दलाल प्राइवेट हॉस्पिटल में इलाज कराने की बात बोल कर ले जा रहा था, सुरक्षाकर्मियों को जैसे ही इसकी सूचना हुई उन्होंने दलाल शिव कश्यप को सिम्स के पर्ची काउंटर से पकड़ा।

पकड़े गए दलाल ने एक के बाद एक राज खोलते चला गया। दलाल ने बताया कि 10 हजार रुपये मानदेय में किम्स हॉस्पिटल के प्रबंधन ने रखा है। उसने बताया कि सिम्स के मरीजो को किम्स हॉस्पिटल में इलाज कराने ले जाता था। इस काम मे सिम्स के कर्मचारी भी शामिल है।

यह काला कारनामा पिछले कई समय से चल रहा है। प्राइवेट अस्पतालों के डॉक्टर्स और प्रबंधक दलालो को पैसे का लालच देकर अपने यह मरीज को शिफ्ट करवाते है। डिप्टी एम एस डॉ आरती पांडेय ने बताया कि किम्स का एक पी आर ओ सिम्स की एम आर डी में पकड़ा गया।

मरीजो की जानकारी ले रहा था तभी सुरक्षा कर्मियों ने उसे पकड़ लिया। पकड़े गए कर्मचारी को सिम्स चौकी के स्टाफ को सौंप दिया गया है। पकड़े गए दलाल शिव कश्यप को अभी सिटी कोतवाली थाने के सुपुर्द कर दिया गया है पूछताश जारी है। कई नाम खुलासे में सामने आने वाले है। आखिर किसकी पनाह से यह काला कारनामा चल रहा था. आखिर कौन है इसके पीछे का मास्टरमाइंड सबका खुलासा आने वाले दिनों में होने की संभावना है।

Back to top button