अंतर्राष्ट्रीय

दो दशकों में स्पेस में कई देशों का दखल बढ़ा: राष्ट्रपति ट्रंप

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन को अलग से अंतरिक्ष बल यानी स्पेस फोर्स तैयार करने का आदेश

वाशिगंटन। अत्याधुनिक हथियारों एवं नवीनतम तकनीक से सुसज्जित तथा सैन्य ताकत में अग्रणी अमेरिका ने अब अंतरिक्ष में होने वाली संभावित जंग के लिए तैयारी शुरूकर दी है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन को अलग से अंतरिक्ष बल यानी स्पेस फोर्स तैयार करने का आदेश दिया है। ट्रंप ने अंतरिक्ष को राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मामला बताया।

स्पेस में बढ़ा कई देशों का दखल

उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि वह नहीं चाहते कि रूस, चीन या कोई अन्य देश इस क्षेत्र में हमें पीछे कर दे। पिछले दो दशकों में स्पेस में कई देशों का दखल बढ़ा है। अब अमेरिका सुदूर स्पेस में भी लीडर की भूमिका में होगा इसलिए वह स्पेस प्रोग्राम को आगे बढ़ाना चाहते हैं।

स्पेस फोर्स अमेरिकी सेना की छठी शाखा

स्पेस फोर्स गठित करने की प्रक्रिया तत्काल प्रारंभ करने के संबंध में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अमेरिका के पास एयर फोर्स है लेकिन हमें उसके आगे जाना है। स्पेस फोर्स एयर फोर्स जैसी ही होगी। स्पेस फोर्स अमेरिकी सेना की छठी शाखा होगी।

फिलहाल अमेरिकी सेना में कुल पांच शाखाएं हैं- वायु सेना, थल सेना, कोस्ट गार्ड, मरीन कॉप्र्स एवं नौसेना। अब स्पेस फोर्स छठी शाखा बनेगी। इसके लिए सबसे पहले इसी वर्ष अमेरिकी स्पेस कमांड बनाया जाएगा। अगले वर्ष तक इसे स्वतंत्र विभाग के तौर पर सेना में शामिल किया जाएगा।

यह अलग सैन्य शाखा जिसका कद वायु या थल सेना जितना

स्पेस फोर्स सैन्य विभाग की ऐसी शाखा होती है जो अंतरिक्ष में युद्ध करने में सक्षम होती है। अभी तक अंतरिक्ष संबंधी सभी मामले वायु सेना के अंतर्गत आते हैं। अब यह अलग सैन्य शाखा होगी जिसका कद वायु या थल सेना जितना ही होगा। वर्ष 2020 तक यह औपचारिक रूप से अमेरिकी सेना का अंग होगी।

Tags
Back to top button