छत्तीसगढ़

एसईसीएल मुख्यालय में हिन्दी पखवाड़ा का शुभारंभ

सीएमडी पंडा ने कहा – प्रतिदिन के कार्यों में करें हिंदी का उपयोग

बिलासुपर: एसईसीएल में 14 सितम्बर से 28 सितम्बर तक हिंदी पखवाड़ा का आयोजन किया जा रहा है। हिंदी पखवाड़ा, 2020 का उद्घाटन समारोह 14 सितम्बर को सीएमडी कान्फ्रेंस हाॅल, एसईसीएल मुख्यालय में आयोजित किया गया।

इस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक ए.पी. पण्डा विडियों कान्फ्रेसिंग के माध्यम सें जड़े एवं ’’राजभाषा पखवाड़ा‘‘ का उद्घाटन किया। अपने उद्बोधन में सभी को हिंदी दिवस की शुभकामनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि हिन्दी सरल व रोचक भाषा है, जैसी बोली जाती है, वैसी ही लिखी भी जाती है।

उन्होने सभी से आग्रह किया कि प्रतिदिन के कार्यो में हिंदी भाषा का अधिकाधिक प्रयोग करें। कार्यालयीन कार्यों में समेकित रूप से हिन्दी का प्रयोग कर हमारा संपूर्ण पत्राचार हिंदी में हो, यह प्रयास करें। उन्होने सभी प्रतियोगिताओ को आन लाइन आयोजित करने का आव्हान किया।

इस अवसर पर निदेशक (कार्मिक) डाॅ. आर.एस. झा, मुख्य सतर्कता अधिकारी बी.पी. शर्मा, निदेशक (तक.) संचालन आर.के. निगम, निदेशक तकनीकी (योजना/परियोजना) एम.के. प्रसाद एवं निदेशक (वित्त) एस.एम. चैधरी विडियों कान्फ्रेसिंग के जरिए इस समारोह से जुडे। इस कार्यक्रम के दौरान महाप्रबंधक (कार्मिक/प्रशासन) ए.के. सक्सेना, एसईसीएल के विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्षगण, अधिकारी एवं कर्मचारीगण उपस्थित थे।

कार्यक्रम की शुरूआत महाप्रबंधक (कार्मिकध्प्रशासन) श्री ए.के. सक्सेना द्वारा अतिथियों के स्वागत उद्बोधन से हुई। प्रबंधक (सचिवीयध्राजभाषा) श्री प्रभात कुमार कुमार ने राजभाषा पखवाड़ा के आयोजन के उद्धेश्य पर प्रकाश डालते हुए इस पखवाड़ा के दौरान आयोजित किए जाने वाले विभिन्न कार्यक्रमों का संक्षिप्त विवरण दिया।

इस अवसर पर केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के संदेश का पठन डी.के. जायसवाल, वरीय प्रबंधक (सचिवीय), केन्द्रीय कोयला मंत्री प्रल्हाद जोशी के संदेश का पठन रघु मेनन, वरीय प्रबंधक (सचिवीय), कोल इण्डिया चेयरमेन प्रमोद अग्रवाल के संदेश का पठन श्रीमती सविता निर्मलकर सहायक प्रबंधक (राजभाषा) ने किया। अंत में उपस्थितों को धन्यवाद ज्ञापित मुख्य प्रबंधक (कल्याण) पी. नरेन्द्र कुमार ने किया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button