शहर में आपराधिक गतिविधियों में इजाफा, सुरक्षा व्यवस्था, पुलिस का खौफ नही

मनीष शर्मा:

मुंगेली: अपराधिक गतिविधियों के लिए वैसे तो पुराने मुंगेली तहसील के नाम सुर्खियों में रहा मगर जिले निर्माण पुलिसिंग व्यवस्था के हुए बदलाव से मुंगेली जिले के आपराधिक घटनाक्रम में कुछ नियंत्रण रहा मगर अब वर्तमान हुई अनेको वारदातों से अपराधियों के हौसले बुलंद है बिना पुलिस के खौफ के अपराधी शहर भीतर पेट्रोल अटैक, लूटपाट, हत्या जैसी घटनाओ को अंजाम दे रहे है।

बता दें बीते सप्ताह शहर भीतर एक सिनेमाघर के बुकिंग कर्मचारी पर पेट्रोल अटैक की घटना को अंजाम देकर अपराधी उड़ीसा फरार हो गए थे इसी घटना में गंभीर रूप से घायल टाकीज कर्मचारी ने इलाज के दौरान देर रात मौत हो गयी। आज सुबह शहर के भीतर ही एक अनाज व्यवसायी की सुबह सुबह घर के बाहर ही लाल मिर्च, चाकू से हमला कर हत्या कर दी गई।

राज्य सरकार के तमाम दावों के बावजुद मुंगेली जिला अपराध के मामलों में नवम्बर वन पर है। यहां वर्तमान अब हत्या, लूटपाट, बंधक बनाकर वेश्यावृत्ति कराने जैसे अपराधी सक्रिय है सुस्त पुलिसिया मिजाज के चलते उनकी गतिविधियां भी लगातार बढ़ रही है। मुंगेली शहर में सनसनीखेज वारदातों से दहशत का माहौल बना हुआ है।

पिछले वर्ष की तुलना में अब हत्या, बलात्कार और धोखाधड़ी,लुटपाट के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। अपराधियों के हौसले इतने बुलंद हो गए है कि सारे वारदात को शहर भीतर ही हत्या, लूटपाट, बंधक बनाने की घटना तक हो रही है।

जनता के बीच पैठ बनानी होगी…एक्सपर्ट व्यू…

पुलिस के निष्क्रीय रहने और वारदात के तुरंत बाद एक्शन नहीं लेने के कारण अपराधियों के हौसले लगातार बढ़ रहे है। अपराध पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस को आम जनता के साथ मित्रवत व्यवहार करते हुए अपनी पैठ बढ़ानी होगी। साथ ही मुखबिर तंत्र को मजबूत करने की जरूरत है। अपराध पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस को लगातार जांच अभियान और अपनी सक्रियता दिखानी होगी। 

हालात बिगड़े

छत्तीसगढ़ राज्य में मुंगेली जिले के हालात भी बड़ी तेजी से बदल रहे है। राज्यनिर्माण के बाद व जिला बनने के चलते पर्याप्त पुलिस फ़ोर्स और अन्य संसाधनों होने के चलते आपराधिक गतिविधियों पर बहुत हद तक कुशल नेतृत्व क्षमता के कारण अंकुश रहा। लेकिन कुछ समय से मुंगेली के हालात बड़ी तेजी के साथ बदले है। अब वर्तमान में सभी आपराधिक वारदात को अंजाम देने वाले गिरोह सक्रिय है।

नेटवर्क बनाया

सरकारी सूचना तंत्र के फेल होते ही अपराधियों ने अपना मजबूत नेटवर्क तैयार कर चुके है। इस चक्रव्यूय को तोड़ पाने में अब तक पुलिस पूरी तरह सफल नहीं हो सकी है।

Back to top button