किसान खेती की उन्नत तकनीक अपनाकर अपनी आमदनी में बढ़ोतरी करें : मुख्यमंत्री

नया शक्कर कारखाना, दुग्ध शीतलीकरण केन्द्र उद्यानिकी महाविद्यालय एवं बॉयपास रोड की घोषणा

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज जिला मुख्यालय बेमेतरा में आयोजित राज्य स्तरीय कृषि विकास एवं किसान कल्याण मेला में शामिल होकर बेमेतरा जिले में फूडपार्क, शक्कर कारखाना का निर्माण, दुग्ध शीतलीकरण केन्द्र, उद्यानिकी कालेज और बेमेतरा शहर के लिए बायपास रोड निर्माण की घोषणा की।

मुख्यमंत्री ने बेमेतरा जिले के लिए 19 करोड़ 12 लाख रूपये के निर्माण कार्यो का लोकार्पण एव भूमिपूजन किया। इसके अलावा उन्होंने हितग्राही मूलक योजनाओ के अंतर्गत 15 लाख 86 हजार रूपये का चेक एवं सामग्री वितरण किया।

मुख्यमंत्री ने विशाल जनसमुदाय को सम्बोधित करते हुए कहा की प्रदेश सरकार मजदूरों और किसानों की सरकार है। यदि किसान खुशहाल होगें तो छत्तीसगढ़ भी खुशहाल रहेगा। इस अवसर पर उन्होंने सुराजी गांव योजना का शुभारम्भ करते हुए एक पुस्तिका का विमोचन किया। समारोह की अध्यक्षता गृह जेल एवं लोकनिर्माण मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनघोषणा पत्र में किए गए वादे के अनुसार सरकार ने शपथ ग्रहण करते ही किसानों का कर्जा माफ किया है। इससे प्रदेश के 16 लाख किसान लाभान्वित हुए है। सरकार द्वारा प्रदेश के 16 लाख से अधिक किसानों के 6100 करोड़ रूपये के अल्पकालीन कृषि ऋण माफ किया गया। किसानों द्वारा राष्ट्रीयकृत बैंकों से लिए गए लगभग 5000 करोड़ रूपये के अल्पकालीन कृषि ऋण भी माफ किया गया। इसके अलावा 2500 रूपये प्रति क्विंटल दर पर किसानों से धान भी खरीदा गया।

प्रदेश सरकार गन्ना खरीदी पर भी बोनस दे रही हैं। यह फैसला हमने किसानों के हक में लिया है। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी नरवा, गरूवा, घुरूवा अउ बारी, – ऐला बचाना हे संगवारी, के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए आम नागरिकों को आव्हान किया। उन्होेंने कहा कि दिनों-दिन भू-जल स्तर निचे चला जा रहा है। नरवा के संरक्षण से भू-जल स्तर बना रहेगा।

इसका उपयोग खेती किसानी के लिए भी किया जा सकेगा। स्मार्ट घुरवा बनाकर कम्पोस्ट खाद के निर्माण से कृषि के उत्पादन को बढ़ाया जा सकता है। इसी तरह मवेशी रूकने का स्थान गौठान (दैहान) निर्माण कर जानवरों के लिए पानी एवं चारा की व्यवस्था की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव में मवेशी चराने वाले यादव समुदाय को इसकी देख रेख के लिए महात्मा गांधी नरेगा योजना से पारिश्रमिक भी दिया जायेगा। मुख्यमंत्री ने किसानों से फसल के अवशेष खेत मे नहीं जलाने की अपील की। इससे धरती की उर्वरा शक्ति कम होती है।

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा की बेमेतरा में आयोजित चार दिवसीय कृषि मेला का बहुत संुदर एवं सफल आयोजन हो रहा है। मुख्यमुत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में सरकार ने प्रदेश की जनता के हित में दो माह के कार्यकाल में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि बेमेतरा में खुली जेल बनाई जाएगी।

कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि मुख्यमंत्री ने आज बेमेतरा से सुराजी ग्राम योजना का शुभारम्भ किया है। हमने जन घोषणा पत्र मे वायदा किया था कि किसानों का कर्जा माफ करेंगे। 2500 रूपए प्रति क्विंटल की दर से धान खरीदी। यह वादा हमने अल्प समय में ही पूरा करके दिखाया है। श्री चौबे ने कहा कि जिले में मछली पालन भी बड़ा उद्योग बनने वाला हैं। उन्होंने किसान भाइयों से मेला का भ्रमण कर, उन्नत तकनीक की जानकारी लेकर अपनी आय दोगुनी करने की अपील की।

किसानों का कर्जा माफ होने से प्रदेश के 16 लाख किसान लाभान्वित हुए है। कृषि मंत्री ने अधिकारियों को बहुत ही कम समय में मेले की सभी तैयारियां पूरी करने पर बधांई दी। विधायक श्री अशीष कुमार छाबड़ा ने कहा कि पहली बार राजधानी से बाहर राज्य स्तरीय मेले का आयोजन बेमेतरा में हो रहा है। यह एक कृषि प्रधान जिला हैे। इस कारण यहां कृषि आधारित उद्योग लगाने की मांग नागरिकों के द्वारा की जाती रही है। सरकार ने 6100 करोड़ रूपये किसानों का कर्जा माफ किया है। विधायक ने बेमेतरा जिले के विकास के लिए मुख्यमंत्री से बॉयपास सड़क फूड प्रोसेसिंग प्लांट की स्थापना, उद्यानिकी कालेज एवं कृषि आधारित उद्योग खोलने की मांग की।

अपर मुख्य सचिव एवं कृषि उत्पादन आयुक्त के.डी.पी. राव ने कहा कि बेमेतरा में आयोजित कृषि मेला से किसान भाई खेती-किसानी की नई-नई तकनीक से रूबरू होंगे। जिससे वे अपने आमदनी में बढ़ोतरी कर सकेंगे। किसान की खुशहाली ही गांव की खुशहाली है।

इस अवसर पर विधायक नवागढ़ श्री गुरूदयाल सिंह बंजारे, विधायक पंडरिया ममता चन्द्राकर एवं जिला पंचायत अध्यक्ष कविता साहू, संभागायुक्त दुर्ग श्री दिलीप वासनिकर, आई.जी. रतन लाल डांगी, सचिव कृषि श्री हेमंत पहारे, कलेक्टर महादेव कावरे, मंडी बोर्ड के प्रबंध संचालक जन्मेजय महोबे, इंदिरागांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के कुलपति डॉ.एस.के पाटिल, कामधेनु विश्वविद्यालय दुर्ग के डॉ ए.पी.दक्षिणाकर, संचालक मछली पालन विभाग व्ही.के. शुक्ला, संचालक उद्यानिकी डॉ. प्रभाकर सिंह, पुलिस अधीक्षक प्रशांत ठाकुर जिला पंचायत के सी.ई.ओ.प्रकाश कुमार सर्वे उपस्थित थे।

Back to top button