पाकिस्तान में सेना और ISI के खिलाफ बढ़ा गुस्सा, मुख्यालय के सामने लगे मुर्दाबाद के नारे

पाकिस्तान में जैसे-जैसे चुनाव की तारीख नजदीक आती जा रही है, वैसे वैसे वहां पर चुनावी गर्मी बढ़ती जा रही है. इसके साथ ही एक बड़ा तबका ऐसा भी है, जिसके अंदर पाकिस्तान की सेना और उनकी खुफिया एजेंसी आईएसआई के खिलाफ भी गुस्सा बढ़ता जा रहा है.

दरअसल चुनाव से ठीक पहले जिस तरह से कथित तौर पर पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को हराने के लिए आईएसआई और सेना ने साजिश की है, उसके खिलाफ लोगों के मन में असंतोष बढ़ गया है.

कहा जा रहा है कि नवाज शरीफ के खिलाफ कोर्ट में तमाम मुकद्मों पर ताबड़तोड़ फैसले आए ही इसलिए हैं, ताकि उन्हें कमजोर किया जा सके. माना जा रहा है कि पाकिस्तानी फौज इस बार इमरान खान को पाकिस्तान का पीएम बनाना चाहती है. उसकी राह में नवाज शरीफ सबसे बड़ा रोढ़ा थे. इसलिए उन्हें हराने के लिए उनके खिलाफ चल रहे तमाम मुकद्मों के फैसले आ गए. इसमें उन्हें सजा सुना दी गई.

अब नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम शरीफ जेल के अंदर हैं. इधर, पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसी आईएसआई के खिलाफ बढ़ता गुस्सा निकलकर सड़क पर आ गया है. शनिवार को रावलपिंडी में सेना के मुख्यालय के सामने आईएसआई और सेना के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई. इस दौरान आईएसआई मुर्दाबाद के नारे लोगों ने लगाए. लोग सेना के खिलाफ भी नारे लगाते हुए दिखे. उन्होंने नारे लगाए, ये जो दहशतगर्दी है, इसके पीछे वर्दी है.

Back to top button