ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत के लिए करनी होगी लंबी साझेदारी – अजिंक्य रहाणे

रहाणे ज्यादातर नंबर चार या पांच पर ही उतरते हैं ऐसे में उन्होंने कहा कि मध्यक्रम में टीम की बल्लेबाजी काफी मजबूत है।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहला टेस्ट मैच 6 दिसंबर से शुरू हो रहा है। ऐसे में इस अहम मुकाबले से पहले टीम इंडिया के उप कप्तान अजिंक्य रहाणे ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत हासिल करने के लिए हमारे बल्लेबाजों को लंबी-लंबी साझेदारियां करनी होंगी।

सीरीज शुरू होने से दो दिन पहले भारतीय उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने ऑस्ट्रेलिया को प्रबल दावेदार बताते हुए कहा कि ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने के लिए उनकी टीम को बड़ी पार्टनरशिप करनी होगी।

रहाणे ज्यादातर नंबर चार या पांच पर ही उतरते हैं ऐसे में उन्होंने कहा कि मध्यक्रम में टीम की बल्लेबाजी काफी मजबूत है।

भारतीय उपकप्तान ने कहा- जब आप नंबर 4 या 5 पर बल्लेबाजी करते हैं तो आपके लिए यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि आप खुद को समय दें। खासकर पहले 15-20 ओवर तक टिक कर खेलें। आपको ड्रेसिंग रूम की स्थिति की जानकारी होनी चाहिए।

रहाणे ने मेलबर्न में 2014-15 में विराट कोहली के साथ 262 रन की साझेदारी का उदाहरण देते हुए कहा कि ऑस्ट्रेलिया का फोकस भारत के स्टार बल्लेबाज पर रहने से दूसरे बल्लेबाजों को एक छोर से अपना काम करने में मदद मिलती है।
उन्होंने कहा- हर बल्लेबाज का काम टीम के लिए योगदान देना है। हमें पिछली बार की तरह बड़ी साझेदारियां बनानी होंगी। इससे हम ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीत सकते हैं।

उन्होंने कहा- पिछली बार एमसीजी पर हमने साझेदारी का पूरा मजा लिया, मिशेल जॉनसन का फोकस विराट कोहली पर था और दूसरे छोर से मैं मजे से अपना स्वाभाविक खेल दिखा रहा था। दूसरे छोर पर विराट काफी आक्रामक थे, बल्ले से भी और मुंह से भी।

रहाणे ने कहा- मैं विराट से बिल्कुल विपरीत खेलता हूं। आपको समझना होता है कि हर किसी की भूमिका अलग- अलग है। यह टीम गेम है और विराट भी ये समझते हैं।

स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर के बिना ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी को कमजोर माना जा रहा है लेकिन रहाणे ने कहा कि अपने मैदान पर ऑस्ट्रेलिया का दावा मजबूत है।

उन्होंने कहा- अपनी जमीन पर हर टीम अच्छा खेलती है और ऑस्ट्रेलिया सीरीज जीतने की प्रबल दावेदार है। उन्हें स्मिथ और वॉर्नर की कमी खलेगी लेकिन वे कमजोर नहीं है। उनकी गेंदबाजी काफी दमदार है और टेस्ट क्रिकेट में यह बहुत जरूरी है।

 

Back to top button