Ind vs Aus: चीफ सिलेक्टर प्रसाद ने दिया बड़ा बयान, जाने पूरी ख़बर!

उन्होंने कहा, आवश्यकता पड़ने पर चेतेश्वर पुजारा ने भी पारी की शुरुआत की थी।

बीसीसीआई के चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद ने आश्वस्त किया कि यदि हनुमा विहारी ओपनर के रूप में फेल हुए तो उन्हें पसंदीदा मध्यक्रम में पर्याप्त मौके दिए जाएंगे।

मध्यक्रम के खिलाड़ी हनुमा विहारी को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बुधवार से होने वाले तीसरे टेस्ट मैच में मयंक अग्रवाल के साथ पारी की शुरुआत का दायित्व सौंपा गया है।

केएल राहुल और मुरली विजय के लगातार फेल होने की वजह से टीम प्रबंधन ने यह फैसला लिया था। जब यह पूछा गया कि क्या दो टेस्ट मैच खेले विहारी से पारी की शुरुआत कराना उचित रहेगा|

प्रसाद ने कहा कि यदि वे ओपनर के रूप में अगले दो टेस्ट मैचों में प्रभाव नहीं छोड़ पाए तो उन्हें मध्यक्रम में भी पर्याप्त मौके दिए जाएंगे।

प्रसाद का मानना है कि विहारी में नई कुकाबूरा गेंद का सामना करने की काबिलियत हैं। उन्होंने कहा, आवश्यकता पड़ने पर चेतेश्वर पुजारा ने भी पारी की शुरुआत की थी।

इस वक्त टीम की यह मांग है और मुझे भरोसा है कि वो इसमें सफल होंगे। यह दीर्घकालीन हल नहीं है, लेकिन उन्हें लगता है कि विहारी इसे सुनहरा मौका मानेंगे।

उल्लेखनीय है कि 1999 के ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर एमएसके प्रसाद से पारी की शुरुआत करवाई गई थी, उन्हें ब्रेट ली की गेंदबाजी का सामना करने में काफी परेशानी हुई थी।

प्रसाद ने कहा कि उस वक्त मैंने सोचा कि मुझे अच्छा मौका मिला है लेकिन मैं उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा था। वैसे रोहित शर्मा की तुलना में विहारी इस स्थिति का लाभ उठाने में ज्यादा सक्षम हैं।

उन्होंने कहा, ‘हमने मयंक को इसलिए बुलाया क्योंकि वह अच्छे फॉर्म में है और उसने भारत-ए सीरीज में अच्छा प्रदर्शन किया। मौजूदा फॉर्म को देखें तो हम सब जानते हैं

कि दोनों सलामी बल्लेबाज उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे। यही कारण है कि उन्हें टीम से बाहर किया गया है। यह निराशाजनक है।

new jindal advt tree advt
Back to top button