स्वतंत्रता दिवस समारोह: जिला मुख्यालयों पर मुख्यमंत्री, मंत्रीगण करेंगे ध्वारोहण, दिशा-निर्देश जारी

जिला स्तरीय समारोह में नक्सली हिंसा में शहीदों के परिवारजनों और स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को आमंत्रित किया जाएगा

रायपुर : राज्य शासन ने 15 अगस्त 2019 को स्वतंत्रता दिवस समारोह के प्रदेश में गरिमापूर्वक आयोजित करने का निर्णय लिया है। प्रदेश स्तर पर राजधानी रायपुर सहित जिला मुख्यालयों, नगरीय निकायों से लेकर विकासखण्ड एवं ग्राम स्तर तक स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन होगा।

सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा मंत्रालय से इस संबंध में शासन के सभी विभागों के प्रमुखों, अध्यक्ष राजस्व मंडल बिलासपुर, विभागाध्यक्षों, आवासीय आयुक्त छत्तीसगढ़ भवन नई दिल्ली, संभागायुक्तों, कलेक्टरों, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किए है।

निर्देश में कहा गया है कि सभी शासकीय और सार्वजनिक भवनों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाए। स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त की रात्रि में सभी शासकीय, सार्वजनिक भवनों, राष्ट्रीय महत्व के स्मारकों पर रोशनी की जाएगी। जिला कलेक्टरों द्वारा उनके स्तर से स्वतंत्रता दिवस पर निजी संस्थाओं से भी उनके भवनों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने और रात्रि में भवनों पर रोशनी करने की अपील की जाएगी।

मुख्य ध्वजारोहण समारोह सुबह 9 बजे से प्रारंभ किया जाएगा जिससे इसके पूर्व नागरिकगण देश की राजधानी नई दिल्ली में लाल किले पर आयोजित होने वाले स्वतंत्रता दिवस समारोह का रेडियो या दूरदर्शन पर होने वाले प्रसारण को सुन एवं देख सकें।

विभाग और कार्यालय प्रमुख द्वारा अपने कार्यालयों में अधिकारियों-कर्मचारियों को एकत्रित कर ध्वजारोहण का कार्यक्रम आयोजित किया करेंगे और ध्वजारोहण के बाद सामूहिक रूप से राष्ट्रीय गान (जन-गण-मन) गाया जाएगा। विश्वविद्यालय, महाविद्यालयों और विद्यालयों में भी ध्वजारोहण कार्यक्रम किया जाएगा।

इसी तरह सभी शिक्षण संस्थाओं में भी ध्वाजारोहण कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे और सांस्कृतिक, साहित्यिक, मनोरंजन के कार्यक्रम, खेल-कूद, वृृक्षारोपण आदि कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे। शिक्षण संस्थान द्वारा सुबह ’प्रभात-फेरी’ का आयोजन किया जाएगा। विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजन के बाद पुरस्कार,

प्रमाण-पत्र, मेडल आदि वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। स्वतंत्रता दिवस समारोह में ध्वनि विस्तारक यंत्र (लाउड स्पीकर) का उपयोग की अनुमति जिला कलेक्टर द्वारा दी जाएगी। यह ध्यान रखा जाए कि ध्वनि विस्तारक यंत्र बजाए जाने वाले गाने सुरूचिपूर्ण और सामयिक हो।

प्रदेश की राजधानी रायपुर एवं अन्य जिला मुख्यालयों में आयोजित होने वाले मुख्य समारोह सुबह 9 बजे से प्रारंभ होगा। इसे देखते हुए रायपुर और अन्य जिला मुख्यालयों में स्थित शासकीय कार्यालयों में ध्वजारोहण कार्यक्रम सुबह 8 बजे के पूर्व सम्पन्न कर लिया जाए, ताकि इन कार्यालयों के अधिकारी-कर्मचारी जिले की मुख्य समारोह में भाग ले सकें।

सभी जिला मुख्यालयों पर ध्वारोहण का कार्यक्रम आयोजित किया जाए और पुलिस, होमगार्ड, एनसीसी, एसएएफ इत्यादि द्वारा परेड आयोजित की जाए। ध्वजारोहण कार्यक्रम के लिए विधानसभा अध्यक्ष और मंत्रीगणों की जिलेवार सूची सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा अलग से जिला कलेक्टर को जारी की जाएगी। जिला कलेक्टर द्वारा नक्सली हिंसा में शहीदों के परिवारजनों एवं स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को सम्मानपूर्वक जिला स्तरीय समारोह में आमंत्रित किया जाएगा।

विभिन्न समाचार पत्रों में स्वाधीनता दिवस के अवसर पर जारी किए जाने वाले विज्ञापनों को, स्वतंत्रता संग्राम के नायकों की तस्वीरें एवं शहीदों, विशेषकर छत्तीसगढ़ के शहीदों के संबंध में संदेशों पर केन्द्रित किया जाए एवं विज्ञापन को इस प्रकार नियोजित किया जाए कि उसका प्रकाशन 15 अगस्त को प्रदेश के समाचार पत्रों में हो जाए।

जनपद पंचायत मुख्यालयों पर जनपद अध्यक्ष द्वारा ध्वजारोहण किया जाए। उसके बाद सामूहिक रूप से राष्ट्रगान गाया जाए और मुख्य अतिथि द्वारा भाषण दिया जाए। ऐसी नगर पालिका, नगर पंचायत, जिनका मुख्यालय विकासखण्ड मुख्यालय पर नहीं है, उनमें अध्यक्ष नगर पालिका, नगर पंचायत द्वारा ध्वजारोहण किया जाएगा।

पंचायत मुख्यालयों में सरपंच द्वारा और बड़ेगांव में, गांव के मुखिया द्वारा ध्वजारोहण कर सामूहिक रूप से राष्ट्रीय गान गाया जाए। कार्यक्रम में उपस्थित लोंगो को स्वतंत्रता दिवस का महत्व बताते हुए उन्हें देश की एकता और अखण्डता के लिए कार्य करने के लिए प्रेरित किया जाए।

Tags
Back to top button