अंतर्राष्ट्रीयराष्ट्रीय

एलएसी पर तनाव करने को लेकर भारत और चीन में आज फिर बातचीत

भारत और चीन के कोर कमांडरों के बीच आज पांचवीं बैठक

नई दिल्ली: भारत और चीन के कोर कमांडरों के बीच आज पांचवीं बैठक मोल्डो में होने वाली है. दोनों देशों के बीच लद्दाख में एक्चुअल लाइन ऑफ कंट्रोल (LAC) पर तनाव करने को लेकर आज फिर बातचीत होगी.

सूत्रों के मुताबिक कि चीन दावा कर रहा है कि सभी विवादित प्वाइंट्स पर डिसएंगेजमेंट की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है लेकिन भारत का कहना है कि गोगरा और पैंगॉन्ग में एक पखवाड़े से अधिक समय से स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया है. एक अधिकारी ने बताया, ‘पैंगॉन्ग और गोगरा एरिया में डिसएंगेजमेंट की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है. चीनी सैनिकों की संख्या कुछ कमी जरूर हुई है, लेकिन बहुत कुछ नहीं बदला है.’

चीन पैंगॉन्ग झील को लेकर चुप्पी साधे हुए है जबकि वह दावा कर रहा है कि गलवान घाटी के साथ साथ हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा में डिसएंगेजमेंट पूरा हो गया है. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने पहले बीजिंग में कहा था कि तीन प्वाइंट्स पर डिसएंगेजमेंट पूरा हो गया है. सूत्रों ने बताया कि पैंगॉन्ग और गोगरा में दोनों तरफ सेना अभी भी बनी हुई है.

असल में, पैंगॉन्ग में चीन ने फिंगर 5 और 8 के बीच अपनी स्थिति मजबूत कर ली है. चीनी सेना पीछे नहीं जा रही है. पैंगॉन्ग और गोगरा में अब भी चीनी सेना पीछे नहीं हटी है. फिंगर एरिया में कोई बदलाव नहीं आया है. चीनी सेना अभी भी फिंगर-4 के रिज एरिया में डटी हुई है. वह फिंगर-4 से पीछे हटकर फिंगर-5 पर अपने लाव-लश्कर के साथ मौजूद है.

इससे पहले, इंडिया टुडे द्वारा रिव्यू की गई ताजा उच्च रिज़ॉल्यूशन वाली सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला था कि एलएसी डिसएंगेजमेंट की बात के बाद भी चीन पैंगॉन्ग झील में अपनी तैनाती बढ़ा रहा है. 14 जुलाई की बातचीत के बाद चीन ने अतिरिक्त बोट और सेना की टुकड़ी को पैंगॉन्ग में तैनात किया है. बताया जा रहा है कि चीनी सेना लगातार अपनी तैनाती को फिंगर फाइव और सिक्स पर बढ़ा रही है.

बता दें कि इस मसले पर क्षेत्र में शांति और स्थिरता कायम करने के मकसद से पूर्वी लद्दाख में झड़प वाली जगह से सेनाओं की वापसी को लेकर अभी तक दोनों देशों की सेनाओं के शीर्ष सैन्य कमांडरों के बीच चार चरण की वार्ता हो चुकी है. 14 जुलाई को दोनों देशों की बैठक हुई थी. मोल्डो (चीन) में दो दौर और चुशुल (भारत) में दो दौर की बैठकें हो चुकी हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button