अंतर्राष्ट्रीयराष्ट्रीय

सरहद पर चीन की अचानक सैन्य गतिविधियां बढ़ने से भारत सचेत

मल्टी नेशनल कंपनियों के भारत में रुख करने के चलते बौखलाया चीन

नई दिल्ली: लद्दाख में भारत और चीनी सेना के बीच सीमा पर तनाव बढ़ता जा रहा है. पैंगोंग त्सो झील के पास हालिया टकराव के दौरान चीनी सैनिकों ने ‘अनैतिक तरीकों’ का सहारा लेते हुए कंटीले तार वाले डंडों और पत्थरों से भारतीय सुरक्षा बलों पर हमला कर दिया.

उधर जानकारी के मुताबिक लद्दाख, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश और तिब्बत से सटी चीनी सरहद पर सैन्य गतिविधियां जोर पकड़ रही है. यह भी देखने में आ रहा है कि भारत में फंसे कई चीनी नागरिक तेजी से अपने देश लौट रहे है. उधर लद्दाख के इलाके में भारत और चीन के सैनिकों के आमने-सामने होने की खबर है.

दोनों ओर की सेना अपने-अपने मोर्चे पर डटी हैं. LOC पर तनाव की स्थिति को देखते हुए दिल्ली में प्रधानमंत्री कार्यालय में एक महत्वपूर्ण बैठक हुई है. इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह , तीनों सेनाओं के प्रमुख, CDS ओपी रावत समेत मुख्य सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने हिस्सा लिया.

बताया जा रहा है कि LOC के 10-15 किलोमीटर रेंज पर चीनी सैनिक बड़े पैमाने पर टेंट-तंबू लगा रहे है. कुछ इलाकों में आधुनिक सुविधाओं से लैस विमान उड़ान भी भर रहे है. इस बैठक में भारतीय क्षेत्र में चीनी सैनिकों की मौजूदगी को लेकर चर्चा की खबर है.

बताया जाता है कि चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर ताजा हालात पर चर्चा की गई है. कुछ ही दिन पहले भारत और चीन के सैनिकों के बीच पूर्वी लद्दाख और सिक्किम के नाकू ला सेक्टर में भी झड़प हो चुकी है. इसी के बाद दोनों देशों में तनाव की स्थिति है. सिर्फ लद्दाख ही नहीं बल्कि बीते एक महीने में चीन और भारत के बीच तीन क्षेत्रों में तनावपूर्ण स्थिति बन रही है.

Tags
Back to top button