कबड्डी सैमीफाइनल में भारत ईरान से हारा, मिलेगा ब्रॉन्ज

जालन्धर : एशियन गेम्स में अब तक कबड्डी खेल में अजेय भारत को 2018 एशियन गेम्स के फाइनल में ईरान से हार का सामना करना पड़ा। गोल्ड मेडल के लिए खेले गए मैच के दौरान ईरान के खिलाडिय़ों ने 27-17 से जीत दर्ज कर भारतीय टीम का सपना चकनाचूर कर दिया। जीत के बाद ईरान के खिलाडिय़ों का कोर्ट पर मनाया गया जश्र भी खूब चर्चा बटोर ले गया। अब ईरान साऊथ कोरिया के साथ कबड्डी फाइनल में भिड़ेगा।

सेमीफाइनल में भारत का खेल पूरी तरह उखड़ा रहा। न तो उसके रेडर चले और न ही डिफेंडर। ईरान ने दोनों ही पक्षों में बेहतर खेल का प्रदर्शन किया और सुपर टैकल में उसके खिलाड़यिों ने भारतीय रेडरों को कोई मौका नहीं दिया। ईरान ने सेमीफाइनल जीतने का जश्न मानो इस तरह मनाया कि उसने स्वर्ण जीत लिया हो। न केवल ईरान के पुरूष खिलाड़ी बल्कि महिला खिलाड़ी भी जश्न मनाने कोर्ट पर उतर आये। इस हार से मायूस भारतीय पुरूष खिलाड़ी कोर्ट के एकतरफ ऐसे बैठे थे मानो उन्हें गहरा सदमा लगा हो। वास्तव में यह हार भारतीय खिलाड़यिों के लिये किसी सदमे से कम नहीं थी।

भारत की स्थिति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक सुपर टैकल के दौरान अजय ठाकुर को ईरानी खिलाड़यिों ने ऐसा दबोचा कि उनकी आंख के पास चोट लग गयी जिससे काफी खून निकल आया। लेकिन हैरानी की बात यह रही कि तीन बार रेफरी की सीटी बजने के बावजूद ईरानी खिलाड़यिों ने अजय को नहीं छोड़ा और उनपर फाउल का कोई अंक भी नहीं लगाया गया। इस एक लहे को छोड़ दें तो ईरानी खिलाड़ी पूरे मैच में छाये रहे। भारतीय टीम को इस हार के बाद अब कांस्य पदक से संतोष करना होगा। ईरान का स्वर्ण पदक के लिये कोरिया से मुकाबला होगा जिसने अन्य सेमीफाइनल में पाकिस्तान को 27-24 से हराया।

कबड्डी में अब तक अजेय था भारत
बता दें कि कबड्डी इवैंट को पहली बार 1990 में एशियन गेम्स में शामिल किया गया था। तब भारत का पहला फाइनल बांगलादेेश के साथ हुआ था। इसके बाद 1994 में फिर से बांगलादेश, 1998 में पाकिस्तान, 2002 में बांगलादेश, 2006 में पाकिस्तान, 2010 में ईरान, 2014 में फिर से ईरान, 2010 में थाइलैंड और 2014 में ईरान को हराकर लगातार 7 गोल्ड जीते थे।

Back to top button