युवा ओलंपिक में भारत को करना पड़ा रजत पदक से संतोष, 2-4 और 1-3 से हारे

मलेशिया की टीमों ने पहली बार स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रचा

ब्यूनसआयर्स:

रविवार को खेले गए फाइनल में मलेशिया से 2-4 से जबकि महिला टीम को मेजबान अर्जेटीना के हाथों 1-3 से हार का सामना करना पड़ा। इसी से साथ भारत को युवा ओलंपिक खेलों की हाॅकी फाइव प्रतियोगिता में उसे पुरूष और महिला दोनों वर्गों के फाइनल में हारने के कारण रजत पदक से संतोष करना पड़ा।

भारतीय पुरूष टीम को रविवार को खेले गए फाइनल में मलेशिया से 2-4 से जबकि महिला टीम को मेजबान अर्जेटीना के हाथों 1-3 से हार का सामना करना पड़ा। मलेशिया की पुरूष और अर्जेंटीना की महिला टीमों ने पहली बार स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रचा।

अर्जेंटीना की पुरूष टीम और चीन की महिला टीम ने कांस्य पदक जीते। अर्जेंटीना की पुरूष टीम ने तीसरे स्थान के लिए खेले गए मैच में जांबिया को 4-0 से जबकि चीन की महिला टीम ने दक्षिण अफ्रीका को 6-0 से हराया।

पुरूष वर्ग के स्वर्ण पदक के मैच में भारत ने विवेक सागर प्रसाद के गोल से दूसरे मिनट में ही बढ़त हासिल कर ली थी। मलेशिया ने हालांकि दो मिनट बाद ही बराबरी का गोल दाग दिया। उसकी तरफ से यह गोल फिरदौस रोस्दी ने किया।

प्रसाद ने पांचवें मिनट में दूसरा गोल करके भारत को फिर से 2-1 से आगे कर दिया और उसने मध्यांतर तक यह बढ़त बरकरार रखी। मध्यांतर के बाद मलेशिया ने शानदार वापसी की। उसकी तरफ से अकीमुल्लाह अनवर ने 13वें मिनट में दूसरा गोल दागा जबकि अमीरूल अजहर ने तीन मिनट बाद उसे बढ़त दिलाई ।

महिलाओं के फाइनल में अर्जेंटीना ने दर्शकों के अपार समर्थन के बीच प्रभावशाली प्रदर्शन किया। भारत ने 49वें सेकेंड में ही मुमताज खान के गोल से बढ़त हासिल करके दर्शकों को सन्न कर दिया। अर्जेंटीना ने हालांकि धैर्य बनाए रखा और छठे मिनट में जियानिला पेलेट ने उसे बराबरी दिला दी।

सोफिया रामेलो ने नौवें मिनट में अपनी टीम को बढ़त दिलाई। मध्यांतर तक अर्जेंटीना 2-1 से आगे था। ब्रिसा ब्रूगेसर ने दूसरे हाफ के दूसरे मिनट में उसकी तरफ से तीसरा गोल किया। भारत ने वापसी के लिए काफी कोशिश की लेकिन अर्जेंटीना ने उसे मौका नहीं दिया।

Back to top button