भारत ने किया दुनिया को अचंभित, एक दिन में लगाए 86 लाख से अधिक टीके

नई दिल्ली : भारत ने हमेशा ही कम संसाधनों में अधिक कर, दुनिया को दांतों तले उंगलियां दबाने पर मजबूर किया है। ऐसा ही एक चमत्कारिक कारनामा भारत ने फिर कर दिखाया है। कल सोमवार को कोरोना के खिलाफ चल रहे वैक्सीनेशन अभियान में भारत ने नया कीर्तिमान बनाया। बीते 24 घंटे में देश में 86.16 लाख से ज्यादा डोज दिए गए। आपको बता दें, इससे पहले 5 अप्रैल को एक दिन में सबसे ज्यादा 43 लाख से अधिक डोज दिए गए थे। यानी, नया रिकॉर्ड पुराने से दोगुना है। इतना ही नहीं ये विश्व रिकॉर्ड है, क्योंकि अब तक दुनिया का कोई भी देश एक दिन में 55 लाख से ज्यादा टीके नहीं लगा पाया था। हालांकि, चीन रोज दो करोड़ टीके लगाने का दावा करता है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं इस दावे को मान्यता नहीं देती हैं।

इस रिकॉर्ड के पीछे क्या है वजह?

दरअसल, 21 जून से केंद्र सरकार ने 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों को फ्री वैक्सीनेशन की शुरुआत की। राज्यों को 18 से 45 तक की उम्र के लोगों के लिए जो वैक्सीन खरीदनी पड़ रही थी उसे भी केंद्र ने सोमवार से देना शुरू किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 7 जून को इसका ऐलान किया था। केंद्र के इस कदम को सफल बनाने के लिए राज्यों ने सोमवार से टीकाकरण महाअभियान शुरू करने का ऐलान किया। इस महाअभियान के तहत ही सोमवार को रिकॉर्ड वैक्सीनेशन हुआ है।

किस राज्य में कितने डोज लगे

मध्य प्रदेश में सोमवार को सबसे ज्यादा वैक्सीनेशन हुआ। राज्य ने सोमवार के लिए 13 लाख 13 हजार वैक्सीन डोज लगाने का टारगेट रखा था। मंगलवार सुबह 7 बजे तक के आंकड़े में यहां टारगेट से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी थी। सोमवार को यहां कुल 16.70 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन डोज लगाई गई। मध्य प्रदेश के बाद कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, गुजरात और हरियाणा में सबसे ज्यादा वैक्सीनेशन हुआ। देशभर में सात राज्य ऐसे रहे जहां सोमवार को 4 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन डोज दी गई। इनमें बिहार और राजस्थान भी शामिल हैं।

राज्य 21 जून को कितने डोज दिए गए

मध्य प्रदेश 16 लाख 70 हजार
कर्नाटक 11 लाख 21 हजार
उत्तर प्रदेश 7 लाख 25 हजार
बिहार 5 लाख 31 हजार
गुजरात 5 लाख 10 हजार
हरियाणा 4 लाख 96 हजार
राजस्थान 4 लाख 46 हजार

मध्य प्रदेश ने कैसे लगाए एक दिन में 16 लाख टीके

सभी राज्यों में सबसे ज्यादा टीकाकरण मध्य प्रदेश में किया गया। यहां 16 लाख से अधिक लोगों को कोविड टीके की खुराक दी गई। अकेले इंदौर जिले में 2.2 लाख टीके की खुराक लगाई गई। आपको बता दें, सोमवार को दिल्ली में हुए टीकाकरण से यह तीन गुना ज्यादा है। मध्य प्रदेश सरकार ने सोमवार को वैक्सीनेशन केंद्रों पर लोगों के लिए जलपान की व्यवस्था की। सरकार ने वैक्सीनेशन कराने आए लोगों के अनुभव रिकॉर्ड किए और सोशल मीडिया के माध्यम से इसका प्रचार किया। वैक्सीनेशन के लिए आने वाले लोगों का अधिकारियों द्वारा कई केंद्रों पर तिलक लगाकर स्वागत किया गया। राज्य सरकार के सभी मंत्री भी अपने क्षेत्रों में थे ताकि ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों को टीकाकरण के लिए उत्साहित किया जा सके।

सीएम ने भी टीका लेने वाले लोगों को शपथ दिलाई कि वह दूसरे लोगों को भी वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करेंगे। इसके साथ ही वृद्धों और दिव्यांगों के लिए टीकाकरण की खास व्यवस्था की गई थी। नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी सरीखे लोगों ने सोशल मीडिया पर जनता से टीकाकरण कराने की अपील की। राज्य सरकार द्वारा गांव, तहसील और जिला स्तर पर गठित क्राइसिस मैनेजमेंट कमिटियों ने भी वैक्सीनेशन में अहम भूमिका निभाई।

इस रफ्तार से कब तक हो जाएगा सबका टीकाकरण

सोमवार की तरह अगर रोज 86 लाख से ज्यादा वैक्सीन डोज लगाई जाए तो देश की 18 साल से अधिक 95 करोड़ की आबादी को पूरी तरह वैक्सीनेट करने के लिए करीब साढ़े छह महीने और लगेंगे। यानी, अगर सोमवार को शुरू हुए महाअभियान की तरह हर दिन वैक्सीनेशन हो तो जनवरी की शुरुआत तक 18 साल से अधिक उम्र की देश की पूरी आबादी वैक्सीनेट हो जाएगी। आपको याद दिला दें, केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा था कि सरकार इस साल के अंत तक सभी का टीकाकरण कर देगी। सरकार के पास इसका पूरा रोडमैप तैयार है।

देश में अब तक 28 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज दी गईं

भारत में 16 जनवरी को हेल्थकेयर वर्कर्स को टीका लगाने के साथ कोरोना टीकाकरण की शुरुआत हुई थी। 2 फरवरी से फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी वैक्सीन लगने लगी थी। 1 मार्च 60 वर्ष से ऊपर के और 45-59 वर्ष के गंभीर बीमारियों से जूझ रहे लोगों को वैक्सीन लगने लगी थी। इस बीच, कोरोना की दूसरी लहर हावी हुई और सरकार ने 1 अप्रैल से 45 वर्ष से ऊपर के सभी लोगों को वैक्सीनेशन में शामिल कर लिया। अब तक सबसे ज्यादा वैक्सीन डोज 5 अप्रैल को दिए गए थे। उस दिन 24 घंटे में 43 लाख डोज दिए गए। 77 दिन बाद सोमवार को ये रिकॉर्ड टूट गया। अगर कुल वैक्सीन डोज की बात करें तो देशभर में अब तक 28.87 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। इनमें से 5.20 करोड़ लोग ऐसे हैं जो पूरी तरह वैक्सीनेट हो चुके हैं।

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण जागरूकता अभियान का भी हुआ असर

सरकार पिछले काफी दिनों से कोविड-19 टीकाकरण को लेकर जागरूकता अभियान चला रही है, जिससे लोगों के मन में टीका को लेकर कुछ भी भ्रम होगा वो अबतक दूर हो चुका होगा। खुद प्रधानमंत्री ने कई बार देश के नागरिकों से टीका लेने का आह्वान कर चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय तो हर संभव तरीके से लोगों को जागरूक करने की कोशिश कर रहा है। इसी का नतीजा है कि अब लोग बड़ी संख्या में टीका लेने के लिए घरों से बाहर निकाल रहे हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button