राष्ट्रीय

भारत, अमेरिका रणनीतिक साझेदारी पर ध्यान दें : राम माधव

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव राम माधव ने सोमवार को कहा कि अमेरिका को भारत के साथ अपने संबंध के विषय में व्यापार से आगे बढ़कर सोचना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत के भौगोलिक और रणनीतिक स्थिति को ध्यान में रखकर अमेरिका को इसे संभावनाओं के देश के रूप में देखना चाहिए। राम माधव ने कहा कि भारत चुनौती और अवसर की दो चुनौतियों के बीच खड़ा है, इसलिए इसकी भौगोलिक व रणनीतिक स्थिति अमेरिका के लिए काफी मायने रखती है।

अमेरिका-भारत व्यापार परिषद (यूएसआईबीएस) की ओर से आयोजित एक परिचर्चा के दौरान माधव ने कहा, “इसके पश्चिम में चुनौती, उतार-चढ़ाव, अस्थिरता, हिंसा और आतंक का क्षेत्र है। वहीं, पूरब में हिंद महासागर और हिंद-प्रशांत क्षेत्र हैं जहां अवसर हैं।”

उन्होंने कहा कि जब डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति बने भारत की दिलचस्पी इस बात में थी कि दोनों देशों के बीच आदान-प्रदान का संबंध होगा। इसलिए आदान-प्रदान के संबंध पर ध्यान देने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका के लिए 21वीं सदी की चुनौती हिंद-प्रशांत क्षेत्र में है और इस चुनौती का सामना करने के लिए नई दिल्ली में वाशिंगटन के लिए अवसर है।

उन्होंने हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए स्पष्ट अमेरिकी नीति की आवश्यकता पर बल दिया।

परिषद की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, अमेरिका के वाणिज्य विभाग के पूर्व सहायक सचिव और वर्तमान में केपीएमजी इंडिया के सीईओ अरुण कुमार अमेरिका-भारत व्यापार परिषद के प्रमुख होंगे।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.