तीसरा टेस्ट: जोहानिसबर्ग में भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 63 रनों से हराया

जोहानिसबर्ग : भारतीय तेज गेंदबाजों ने एक बार फिर शानदार प्रदर्शन किया और साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट में मेहमान टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका अदा की। ओपनर डीन एल्गर की 86 रन की शानदार नाबाद पारी के बावजूद साउथ अफ्रीका को तीसरे और अंतिम टेस्ट में 63 रन से हार झेलनी पड़ी। 241 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी साउथ अफ्रीकी टीम 177 रन ही बना सकी और सीरीज में क्लीन स्वीप जीत दर्ज नहीं कर पाई।

अनुभवी हाशिम अमला और एल्गर के शानदार अर्धशतकों के बाद साउथ अफ्रीकी टीम एक समय मजबूत स्थिति में पहुंच गई थी लेकिन तेज गेंदबाजों ने मेजमान टीम की उम्मीदों को बड़ा झटका दिया। डीन एल्गर एक छोर पर डटे रहे लेकिन अमला के अलावा उनका साथ देने के लिए कोई भी बल्लेबाज भारतीय पेस आक्रमण के सामने टिक नहीं सका। एल्गर ने 240 गेंदों की अपनी नाबाद पारी में 9 चौके और 1 छक्का जड़ा। उन्होंने 153 गेंदों में अपने टेस्ट करियर का 10वां अर्धशतक पूरा किया था।

एल्गर ने हाशिम अमला के साथ दूसरे विकेट के लिए 119 रन की अहम साझेदारी की। चौथे दिन के पहले सेशन में एक भी विकेट नहीं गिरा लेकिन दूसरे सत्र में अमला और एबी डिविलियर्स को भारतीय पेसरों ने पविलियन भेज दिया। अमला ने 52 रन की उम्दा पारी खेली। उन्होंने 140 गेंदों की अपनी पारी में 5 चौके लगाए और टेस्ट करियर का 38वां अर्धशतक पूरा किया।

अमला और एल्गर ने दूसरे विकेट के लिए 119 रन की पार्टनरशिप की। अमला को इशांत शर्मा की गेंद पर हार्दिक पंड्या ने शॉर्ट मिडविकेट पर लपका। इसके बाद उतरे धुरंधर बल्लेबाज एबी डिविलियर्स कुछ खास नहीं कर सके और पेसर जसप्रीत बुमराह ने उन्हें शिकार बनाया। डीविलियर्स (6) को बुमराह की गेंद पर अजिंक्य रहाणे ने लपका।

एबी के बाद उतरे कैप्टन फाफ डु प्लेसिस को इशांत शर्मा ने बोल्ड कर दिया। इशांत की गेंद को समझने में कैप्टन डु प्लेसिस गलती कर बैठे और 9 गेंदों पर 2 रन बनाकर चलते बने। इसके बाद विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डि कॉक से टीम को काफी उम्मीदें थीं लेकिन वह अपनी पहली गेंद पर ही LBW आउट हो गए। युवा पेसर जसप्रीत बुमराह ने उन्हें शिकार बनाया।

डि कॉक के बाद वेर्नोन फिलैंडर (10) और एंडिले फेहलुकवायो (0) को मोहम्मद शमी ने अपने एक ही ओवर में पविलियन भेजकर मैच में भारत की जीत की उम्मीदों को जिंदा कर दिया। कागिसो रबाडा (0) को भुवनेश्वर कुमार ने चेतेश्वर पुजारा के हाथों कैच कराया। मोहम्मद शमी ने अपने अगले ही ओवर में मोर्न मोर्कल को बोल्ड कर साउथ अफ्रीका को नौवां झटका दिया।

इससे पहले चौथे दिन का खेल गीले मैदान के कारण काफी देर से शुरू हुआ और इसी वजह से पहले सत्र का खेल भी आधे घंटे देरी से खत्म हुआ। तीसरे दिन का खेल समाप्त होने से कुछ देर पहले बारिश आ गई थी जिसके कारण मैदान गीला था। इसी वजह से विकेट के व्यवहार में भी बदलाव देखने को मिला और तीसरे दिन विकेट पर जिस तरह का असमान उछाल था, वह चौथे दिन पहले सत्र में नदारद रहा। हालांकि विकेट से उछाल और स्विंग भरपूर था।

एल्गर और अमला की जोड़ी ने सूझबूझ से बल्लेबाजी की और अपनी टीम को पहले सत्र में कोई झटका नहीं लगने दिया। भारत ने अपनी पहली पारी में 187 रन बनाए थे। वहीं दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में 194 रन बनाते हुए सात रनों की बढ़त ले ली थी। भारत ने अपनी दूसरी पारी में 247 रन बनाते हुए मेजबान टीम के सामने चुनौतीपूर्ण लक्ष्य रखा है।

1
Back to top button