इंडियन आर्मी ने जवाबी कार्रवाई में पाकिस्‍तान के चार सैनिकों को किया ढेर

इंडियन आर्मी के मेजर रैंक के एक आफिसर समेत तीन जवान शहीद

श्रीनगर: इंडियन आर्मी ने जवाबी कार्रवाई में पाकिस्‍तान के चार सैनिकों को ढेर किया। इसके बाद जम्‍मू में इंटरनेशनल बॉर्डर पर पाक के स्‍नाइपर अटैक में बॉर्डर सिक्‍योरिटी फोर्स (बीएसएफ) के असिस्‍टेंट कमांडेंट शहीद हो गए थे।

पाक की ओर से पिछले दिनों लगातार हुई फायरिंग एलओसी पर इस वर्ष बढ़ते तनाव की ताजी घटना है। पिछले दिनों पाक की बॉर्डर एक्‍शन टीम (बैट) के हमले में इंडियन आर्मी के मेजर रैंक के एक आफिसर समेत तीन जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद से ही लगातार एलओसी पर माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है। 48 घंटे में सेना की बड़ी कार्रवाई।

इंडियन आर्मी के एक ऑफिसर ने अपना नाम न बताने की शर्त पर बताया, ‘पाकिस्‍तानी सेना के कम से कम चार सैनिकों को पिछले 48 घंटें में इंडियन आर्मी ने एलओसी पर जवाबी कार्रवाई में ढेर कर दिया है।’

वहीं बीएसएफ के साथ पोस्‍टेड एक और ऑफिसर ने बताया कि भारत की तरफ से हुई जवाबी कार्रवाई में सीमा के उस तरफ काफी नुकसान हुआ है। लेकिन दूसरे ऑफिसर ने बताया कि पाक सेना के कम से कम पांच सैनिकों को ढेर किया गया है। सूत्रों की ओर से बताया गया कि पाक सेना को राजौरी में काफी नुकसान उठाना पड़ा है और इस बात की पुष्टि की जा सकती है।

आगे भी मिलता रहेगा करारा जवाब

इससे पहले जम्‍मू कश्‍मीर में नॉर्दन कमांड के चीफ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने कहा है कि साल 2018 घाटी में सुरक्षाबलों के लिए एक बहुत ही अच्छा साल रहा है। उन्‍होंने इसके साथ ही पाकिस्‍तान को एक बार‍ से फिर से चेतावनी दी है कि भारतीय सेना दुश्‍मन को जवाब देने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

लेफ्टिनेंट जनरल सिंह ने कि पिछले वर्ष सेना ने 250 से ज्‍यादा आतंकियों को मारा, 54 आतंकियों को जिंदा पकड़ा। वहीं, चार आतंकी ऐसे थे जिन्‍होंने सुरक्षाबलों के सामने सरेंडर कर दिया। नॉर्दन आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट सिंह ने आगे कहा कि पिछले कुछ दिनों में पांच पाकिस्‍तानी आतंकियों को ढेर किया गया है। इससे साफ होता है कि सेना, एलओसी पर पाक आतंकियों को करारा जवाब दे रही है।

पाक की फायरिंग में नागरिक घायल

जम्‍मू कश्‍मीर के पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुल्‍ला ने हालांकि नॉर्दन कमांडर के इस बयान की आलोचना की है। उन्‍होंने कहा कि सेना के लिए बेहतर वर्ष तब होगा जब कोई युवा आतंकवाद से न जुड़े, कोई भी आतंकी न मारा जाए और न ही सुरक्षाबल के किसी जवान को एनकाउंटर में अपनी जान गंवानी पड़ी।

आतंकियों की मौत कभी जश्‍न का विषय नहीं होनी चाहिए। अधिकारियों का कहना है कि गुरुवार को भी पाकिस्‍तान की तरफ से युद्धविराम उल्‍लंघन जारी रहा। पाक की फायरिंग में एक नागरिक घायल हो गया है और यह घटना राजौरी जिले में स्थित एलओसी पर हुई है।

2,936 बार तोड़ा गया युद्धविराम

पाकिस्‍तान की तरफ से राजौरी जिले के झांगर, लाम, फुकेरनी और पीर बादेश्‍वर इलाकों में भारी फायरिंग को अंजाम दिया गया। साल 2018 में पाक की तरफ से 2,936 बार युद्धविराम को तोड़ा गया।

पिछले 15 वर्षों के बाद यह पहला मौका था जब बॉर्डर और एलओसी पर इस कदर पाक की तरफ से फायरिंग को अंजाम दिया गया था। पाकिस्‍तान एक तरफ जहां शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की बात की जा रही तो वहीं उसकी सेना की ओर से लगातार गोलीबारी की जा रही थी।

 

1
Back to top button