इंडियन एक्सप्रेस अख़बार ने मेक्सिको से भारत डिपोर्ट किए गए लोगों की आपबीती छापी है

इंडियन एक्सप्रेस अख़बार ने मेक्सिको से भारत डिपोर्ट किए गए लोगों की आपबीती छापी है, जिसमें उन्होंने बताया है कि कैसे वो मानव तस्करों, बीमारी और प्यास से लड़ते हुए पनामा के जंगलों के मुश्किल रास्तों से होते हुए मेक्सिको पहुंचे थे. उनके मुताबिक मेक्सिको तक के इस सफर में उन्हें महीनों लग गए.

लेकिन शुक्रवार को मेक्सिको सरकार ने इन लोगों को वापस भारत भेज दिया. इन लोगों में पंजाब और हरियाणा के 300 से ज़्यादा युवा प्रवासी शामिल थे. इन लोगों ने पहले वीज़ा एजेंट्स से संपर्क किया, जिन्होंने प्रति व्यक्ति 15 से 20 लाख रुपये मांगे.

लेकिन किसान परिवारों के ये बेरोज़गार लड़के परिवारों को पीछे छोड़कर दूसरे रास्ते से अमरीका निकल पड़े. इन लोगों ने कुछ यूट्यूब वीडियो देखे और ऐसे लोगों के बारे में सुना, जो सफलतापूर्वक अमरीका पहुंच गए थे.

26 साल के सेवक सिंह ने बताया, “मैंने यूट्यूब पर यात्रा के वीडियो देखे थे. उसे देखकर नहीं लगा कि ये सफर इतना भयानक होगा. मुझे नहीं पता था कि हमें एक जंगल से होकर जाना होगा. जहां न खाना मिलेगा और न ही पानी.”

युवकों ने बताया कि प्यास बुझाने के लिए उन्होंने कमीज़ों से पसीना निचोड़कर पीना पड़ा था.

Back to top button