यात्रियों को मामूली कीमत पर वर्ल्ड क्लास फील देगा भारतीय रेलवे का एक्वेरियम एक्सपेरिमेंट

फिलहाल कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए एक बार में सिर्फ 25 आगंतुक एक्वेरियम में जा सकते हैं।

दिल्ली: यात्रियों को एक यादगार अनुभव प्रदान करने और स्टेशन पर उनके प्रतीक्षा समय को सुखद बनाने के उद्देश्य से, भारतीय रेलवे स्टेशन विकास निगम लिमिटेड (आईआरएसडीसी) ने एचएनआई एक्वाटिक किंगडम के सहयोग से केएसआर बेंगलुरु रेलवे स्टेशन पर भारतीय रेलवे का पहला ऐसा मछलीघर बनाया है, जिसे कहीं भी ले जाया जा सकता है। इसे 1 जुलाई 2021 यानी आज से आम जनता के लिए खोला गया । यह अमेजन नदी की अवधारणा पर आधारित अपनी तरह का अनूठा जलीय पार्क है। यह स्टेशन पर इंतजार कर रहे यात्रियों के लिए एक मनोरम दृश्य उपलब्ध कराएगा।

दिखेंगे 2 फीट से 2.5 फीट तक के घड़ियाल गार

12 फीट लंबा एक्वाटिक किंगडम भारतीय रेलवे का पहला दर्शनीय स्थल है, जिसमें असंख्य वनस्पतियां और जीव हैं। एक्वाटिक किंगडम का प्रवेश द्वार समुद्री जीवन की एक झलक देता है, जिसमें एक सुंदर डॉलफिन नम्रता से आगंतुकों का एक मुस्कान के साथ अभिवादन करती है। एक्वाटिक किंगडम में एक 3डी सेल्फी क्षेत्र है, जहां एक बड़ी मछली एक्वेरियम से बाहर निकलती हुई दिखाई देती है। लगभग 20 फीट कांच की परिधि के साथ, एचएनआई एक्वाटिक किंगडम में मनभावन रंगों में लगाए गए विभिन्न वनस्पतियों और जीवों के साथ समुद्री और उष्णकटिबंधीय खंड भी हैं। यह विभिन्न जलीय जंतुओं जैसे कि 2 फीट से 2.5 फीट तक के घड़ियाल गार, 3 फीट के स्टिंग रे, 3.5 फीट तक की ईल, शार्क, झींगा मछली, घोंघे और झींगा आदि का भी घर है। प्राकृतिक चट्टान, कृत्रिम कोरल चट्टान और ड्रिफ्टवुड के छींटे इस मछलीघर की शोभा बढ़ाते हैं।

प्रति यात्री 25 रुपए का मामूली प्रवेश शुल्क

यात्री अनुभव को सुखद बनाने के अलावा, यह पहल भारतीय रेलवे के राजस्व को भी बढ़ाएगी। इस मछलीघर को देखने के लिए 25/- प्रति यात्री का मामूली प्रवेश शुल्क रखा गया है। इसे आज मंडल रेल प्रबंधक, बेंगलुरु और वरिष्ठ रेलवे और आईआरएसडीसी अधिकारियों की उपस्थिति में जनता के सुपुर्द किया गया। मोहम्मद इस्माइल और समृद्धि जैन एक्वेरियम में जाने वाले पहले आगंतुक रहे। फिलहाल कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए एक बार में सिर्फ 25 आगंतुक एक्वेरियम में जा सकते हैं।

प्रतीक्षा समय को बनाएगा सुखद

आईआरएसडीसी के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी एस के लोहिया ने इस मौके पर कहा, “आईआरएसडीसी हमेशा से अग्रणी पहलों को शुरू करने में सबसे आगे रहा है। हमारा प्रयास है कि हवाई अड्डों के समान भारतीय रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास करके और हमारी उत्कृष्ट सुविधा प्रबंधन पहलों के साथ यात्रियों के आनंद को बढ़ाया जाए। इससे प्रतीक्षा समय यात्रियों और आगंतुकों के लिए दुखद होने के बजाय एक सुखद अनुभव बन जाएगा। यह मछलीघर यात्रियों और आगंतुकों को आकर्षित करेगा और यह न केवल एक सुखद अनुभव होगा बल्कि शिक्षाप्रद भी होगा।”

आईआरएसडीसी यात्री अनुभव को सुखद बनाने के लिए है प्रतिबद्ध

आईआरएसडीसी को यात्रियों के अनुभव को सुखद बनाने और यात्रा को एक सुरक्षित और परेशानी मुक्त अनुभव बनाने के लिए पांच रेलवे स्टेशनों, केएसआर बेंगलुरु, पुणे, आनंद विहार, चंडीगढ़ और सिकंदराबाद में सुविधा प्रबंधन का कार्य सौंपा गया है। आईआरएसडीसी यात्री अनुभव को सुखद बनाने और भारत में रेलवे स्टेशनों के विकास, पुनर्विकास, संचालन और रखरखाव में एक बेंचमार्क स्थापित करने के लिए प्रतिबद्ध है। आईआरएसडीसी कई सुविधा प्रबंधन जैसे ‘वाटर फ्रॉम एयर’ वाटर वेंडिंग मशीन, फिट इंडिया स्क्वाट कियोस्क, उच्चतम रेटिंग वाला ईट राइट स्टेशन, डिजिटल लॉकर, जेनेरिक दवा की दुकान, मोबाइल चार्जिंग कियोस्क, भारतीय रेलवे में एक स्टार्टअप द्वारा एक खुदरा स्टोर और एक फूड ट्रक शुरू करने में अग्रणी रहा है। शीघ्र ही, आईआरएसडीसी चरणबद्ध तरीके से 90 और स्टेशनों का सुविधा प्रबंधन करेगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button