राष्ट्रीय

इराक में आईएस द्वारा मारे गये 38 भारतीयों के पार्थिव अवशेषो को भारत लाया गया

इराक में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) द्वारा मारे गए भारतीय नागरिकों के शवो के अवशेषों को भारत लाया गया है. और उनके शवो को उनके परिवर वालो को सौप दिया गया.

पंजाब: इराक में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) द्वारा मारे गए भारतीय नागरिकों के शवो के अवशेषों को भारत लाया गया है. और उनके शवो को उनके परिवर वालो को सौप दिया गया. पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि पंजाब सरकार मरने वाले हर शख्‍स के परिवार को 5-5 लाख रुपये और परिवार के एक सदस्‍य को उसकी योग्‍यता के अनुसार नौकरी दी जाएगी.

आपको बता दें कि विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह रविवार को इराक के लिए रवाना हुए थे. उन्होंने कहा कि साल 2014 में इराक के मोसुल पर कब्जा करने के बाद 39 भारतीयों की हत्या कर दी गई थी. उनमे से एक मृतक की शिनाख्त नहीं हो पाने के कारण 38 भारतीय नागरिकों के अवशेष ही भारत लाए गए.

विदेश राज्य मंत्री शवों को लेकर सबसे पहले पंजाब के अमृतसर गए और बिहार के पटना जाकर मृतकों के परिजनों को अवशेष सौंपेंगे. मारे गए 39 लोगों में 27 पंजाब से और 4 बिहार से थे. गौरतलब है कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 20 मार्च को संसद को सूचित किया था कि इराक में मजदूरी का काम कर रहे जिन 39 भारतीयों का 2014 में मोसुल से अपहरण हो गया था, उनकी हत्या हो गई है. इससे पहले इराक से बच निकले हरजीत मसीह ने दावा किया था कि आईएस ने 39 भारतीयों की गोली मारकर हत्या कर दी है. जबाव में विदेश मंत्री ने कहा था कि इस संबंध में कोई ठोस सबूत नहीं मिल जाता, वे किसी की मृत्यु की पुष्टि नहीं कर सकतीं.

मंत्री ने कहा था कि लापता 39 भारतीय नागरिकों में से 38 के डीएनए नमूनों के आधार पर उनकी शिनाख्त हुई थी. 39वें व्यक्ति के परिजनों की मौत होने के बाद उनके एक रिश्तेदार ने अपना डीएनए नमूना भेजा था, फिलहाल उनकी शिनाख्त नहीं हुई है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.