अंतर्राष्ट्रीयराष्ट्रीय

चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर भारतीय जल थल और वायु सेना अलर्ट पर

चीन के खिलाफ किसी भी कार्रवाई के लिए सेना को फ्री हैंड दे दिया गया

नई दिल्ली: लद्दाख की गालवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के दौरान 20 भारतीय सेना के जवान शहीद हुए हैं. मंगलवार रात भारतीय सेना ने इसकी पुष्टि की. दिल्ली में सीडीएस और तीनो सेनाओं के प्रमुखों के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ताजा हालातों पर चर्चा की है.

सूत्र बता रहे है कि चीन के खिलाफ किसी भी कार्रवाई के लिए सेना को फ्री हैंड दे दिया गया है. उधर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर चीन से तनातनी जारी है. सूत्रों का कहना है कि LAC को लेकर कल से अब तक हो रहे चीनी समझौते की कोशिश का कोई खास असर नहीं हुआ है.

बताया जा रहा है कि भारतीय सेना के शहीद हुए 20 जवानों का नाम आज जारी किये जायेंगे. चीनी सेना के साथ झड़प में हमारे जवान शहीद हुए हैं. जबकि चीन के 43 जवानों के मारे जाने की खबर है.

बताया जाता है कि झड़प की घटना 15-16 जून की की रात हुई. भारत सैनिकों का दल कमांडिंग अफसर कर्नल संतोष बाबू की अगुवाई में चीनी कैंप में गया था. भारतीय दल कोई हथियार लेकर नहीं गया था.

भारतीय सैनिकों को चीन ने धोखा दिया

जानकारी के मुताबिक भारतीय दल चीनी सैनिकों के पीछे हटने को लेकर बनी सहमति पर बात करने के लिए आगे बढ़ा था. लेकिन, वहां भारतीय सैनिकों को चीन ने धोखा दिया. LAC पर बॉल्डर, पत्थर, कंटीले तारों और कील लगे डंडों से चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों पर हमला बोला. जवाबी कार्रवाई में कमांडिग ऑफिसर कर्नल संतोष बाबू और दो जवान मौके पर शहीद हो गए, जबकि कई जवान घायल हो गए.

जानकारी के मुताबिक झड़प जिस प्वाइंट पर हुई उसके ठीक नीचे उफनती हुई श्योक नदी बहती है. कई सैनिकों के नदी में बहने की खबर है. कई जख्मी सैनिक इलाके में शून्य से कम तापमान की वजह से अपने जख्मों से उबर नहीं पाए और शहीद हो गए| भारत की तरफ से जारी आधिकारिक बयान के मुताबिक, 20 जवान शहीद हुए हैं.

उधर चीन ने अपने नुकसान को लेकर मुंह खोलने की हिम्मत नहीं दिखाई है. सीमा पर भारतीय जवानो के हौसले से चीनी सेना में हड़कंप है. खबर है कि भारत की तुलना में चीन को नुकसान तगड़ा हुआ है.

एक समाचार एजेंसी के मुताबिक, चीन के 43 सैनिक या तो मारे गए हैं या फिर बुरी तरह जख्मी हुए हैं. उधर चीन के धोखे से देश गुस्से में है. देशभर में चीनी उत्पादों के बहिष्कार का दौर शुरू हो गया है.

Tags
Back to top button