अन्यखेल

भारतीय कुश्ती महासंघ : विनेश फोगाट और पूजा ढांडा को सालाना 30 लाख करार

डब्ल्यूएफआई के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में इस करार की घोषणा की, जिन्होंने राष्ट्रीय सीनियर चैंपियनशिप का उद्घाटन किया।

भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने शुक्रवार को देश के पहलवानों के लिए करार प्रणाली की शुरुआत की। इसमें सितारा पहलवान बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट के साथ पूजा ढांडा को सालाना 30 लाख रुपए की करार राशि वाले शीर्ष ‘ए’ ग्रेड में शामिल किया गया।

बजरंग और विनेश को शीर्ष ग्रेड में जगह मिलने की उम्मीद थी जिन्होंने इस वर्ष क्रमशः राष्ट्रकुल और एशियाई खेल में स्वर्ण पदक जीते। हाल ही में पूजा ने विश्व चैंपियनशिप में पदक जीता था और वह ऐसा करने वाली चौथी भारतीय महिला पहलवान बनी थीं।

दो बार के ओलिंपिक पदक विजेता सुशील कुमार और रियो ओलिंपिक की कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक शीर्ष ग्रेड में जगह नहीं बना सके। ये दोनों पिछले कुछ समय से अपनी फॉर्म से जूझ रहे हैं। इन दोनों को ‘बी’ ग्रेड में रखा गया है जिसमें उन्हें सालाना 20 लाख रुपए की वित्तीय मदद मिलेगी।

डब्ल्यूएफआई के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में इस करार की घोषणा की, जिन्होंने राष्ट्रीय सीनियर चैंपियनशिप का उद्घाटन किया।

‘सी’ ग्रेड में शामिल पहलवानों को 10 लाख रुपये का सहयोग मिलेगा। इसमें संदीप तोमर, ग्रीकोरोमन पहलवान साजन भानवाल, विनोद ओम प्रकाश, रितु फोगाट, सुमित मलिक, दीपक पूनिया और एशियाई खेल की कांस्य पदक विजेता दिव्या काकरान शामिल हैं।

‘डी’ ग्रेड में शामिल पहलवानों को पांच लाख रुपए की मदद मिलेगी जिसमें राहुल अवारे, नवीन, सचिन राठी, ग्रीकोरोमन पहलवान विजय, रवि कुमार, सिमरन, मानसी और अंशु मलिक शामिल हैं।

डब्ल्यूएफआइ भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) द्वारा मान्यता प्राप्त इकलौता राष्ट्रीय खेल संघ है जिसने अपने खिलाड़ियों के लिए करार की पेशकश की है। ऐसा करने वाली वह बीसीसीआई के बाद दूसरी भारतीय खेल संस्था है।

इनका कहना है

सुशील ने अपने दो ओलिंपिक पदकों से देश में खेल का चेहरा ही बदल दिया है। हमें यह जानते हुए भी उन्हें सूची में शामिल करना पड़ा कि वह टूर्नामेंट में इतना भाग नहीं ले रहे हैं। साक्षी का प्रदर्शन भी उतार-चढ़ाव भरा रहा है लेकिन पहलवान अपने अच्छे प्रदर्शन से अगले वर्ग में ऊपर चढ़ सकते हैं- बृजभूषण शरण सिंह (अध्यक्ष, डब्ल्यूएफआई

जूनियर पहलवानों के लिए यह अच्छा है। इससे खिलाड़ी प्रेरित होंगे जिससे पदक, शोहरत आएगी और समर्थन मिलेगा- विनेश फोगाट

मैं शीर्ष ग्रेड में आने की उम्मीद कर रही थी लेकिन फिर मैं दमदार प्रदर्शन करूंगी, जिससे मेरे पास शीर्ष ग्रेड में जाने का अच्छा मौका होगा-<>

Summary
Review Date
Reviewed Item
भारतीय कुश्ती महासंघ : विनेश फोगाट और पूजा ढांडा को सालाना 30 लाख करार
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags