एमबीबीएस ऐडमिशन धांधली में बड़े सफेदपोशों तक पहुंच रहा जांच का दायरा

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस कोर्स में स्टूडेंट्स को एडमिशन देने से जुड़े घोटाले की परत खुलने लगी है।

सीबीआई का दावा है कि आने वाले दिनों में जांच का दायरा कम से कम एक दर्जन मेडिकल कॉलेजों तक बढ़ेगा। इसमें कई राजनेता और नौकरशाहों के भी नाम सामने आएंगे।

गौरतलब है कि गुरुवार को सीबीआई ने करप्शन से जुड़े मामले में ओडिसा हाई कोर्ट के पूर्व जस्टिस इशरत मसरुर कुद्दुसी सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया था।

चांदनी चौक घोटाला बना केंद्र

जांच में चांदनी चौक एमसीआई घोटाले का सेंटर बन कर सामने आया है। मौजूदा केस में भी हवाला के जरिए बड़ी रकम देने के लिए चांदनी चौक में ही मीटिंग बुलाई गई थी।

इसका खुलासा कॉल रिकॉर्ड से हुआ। दिलचस्प बात यह है कि महज तीन दिन पहले एमसीआई घोटाले से जुड़े दूसरे मामले में आर्मी के एक सीनियर अफसर कर्नल अजय कुमार सिंह सहित चार अन्य लोगों को चांदनी चौक में ही दस लाख रुपये घूस लेते रंगे हाथ अरेस्ट किया था।

वे पांडिचेरी मेडिकल कॉलेज से जुड़ी एमसीआई की अहम सूचना लीक कर रहे थे जिससे उस कॉलेज को लाभ मिल सके। सूत्रों के अनुसार जांच एजेंसी अब दोनों मामलों के बीच की कड़ी तलाशने की कोशिश कर रही है।

सीबीआई अधिकारियों के अनुसार अब तक दोनों मामलों के तार नहीं जुड़े हैं लेकिन एमसीआई घोटाले में जिस तरह कई बड़े लोगों की संलिप्तता सामने आ रही है उससे आने वाले दिनों में यह बहुत बड़े घोटाले का रूप ले सकता है।

क्या और भी फैसले प्रभावित हुए?

सूत्रों के अनुसार जांच के क्रम में यह बात भी सामने आई कि एमसीआई के अलावा कुछ दूसरे मामलों में भी केस प्रभावित करने के लिए बड़ा वित्तीय लेन-देन हुआ।

अब इस मामले की जांच किस तरह हो इस बारे में एजेंसी में उलझन है। जांच के क्रम में आए इन केस से जुड़े तथ्यों को सरकार के सामने पेश कर इसमें क्या एक्शन लिया जाए इस बारे में दिशा-निर्देश मांगा गया है।

कई सफेदपोश सामने आएंगे

जांच एजेंसी का दावा है कि यह मामले की शुरुआत है। इसमें कई और बड़े सफेदपोश के नाम सामने आने का दावा किया जा रहा है।

हालांकि एक मौजूदा जज का नाम सामने आने के बीच सीबीआई ने कहा कि अभी किसी मौजूदा जज से पूछताछ के लिए अनुमति नहीं मांगी गई है।

सूत्रों के अनुसार जांच एजेंसी को जो इस मामले से जुड़े कागजात और बातचीत के रिकॉर्ड मिले हैं उस हिसाब से इसमें कई नौकरशाह और नेताओं के भी नाम सामने आ सकते हैं।

सुधीर गिरी फरार

मेडिकल कॉलेज में दाखिले के खेल में फंसे वेंकटेश्वर ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूशन के सुधीर गिरी की गिरफ्तारी के लिए मेरठ और अमरोहा में सीबीआई नजर रखे है।

सुधीर गिरी फिलहाल फरार है। मेरठ पुलिस का कहना है कि उनके पास अभी सुधीर गिरी के बारे में कोई लिखित जानकारी सीबीआई की तरफ से नहीं आई है।

Back to top button