बिज़नेसराष्ट्रीय

भारत का अगस्त में पीएमआई बढ़कर 52 पर पहुंच, जुलाई में था 46 पर

सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 23.9 फीसदी की रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई

नई दिल्ली: कोरोना के कारण मौजूदा वित्त वर्ष की अप्रैल से जून तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 23.9 फीसदी की रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई है. भारत का अगस्त में पीएमआई बढ़कर 52 पर पहुंच गया है. इससे पहले महीने यानी जुलाई में ये 46 पर था. पांच महीने में पहली बार इसमें ग्रोथ आई है. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि पीएमआई का 50 के ऊपर रहना एक अच्छा संकेत है. आने वाले दिनों में आंकड़े और बेहतर हो सकते है.

कैसे लौटी ग्रोथ-आईएचएस मार्किट के अर्थशास्त्री श्रेया पटेल का कहना है कि भारतीय विनिर्माण क्षेत्र की सेहत में सकारात्मक सुधार आया है. यह संकेत जून तिमाही में गिरावट से उबरने की ओर है. उन्होंने कहा, घरेलू बाजारों की मांग में तेजी से उत्पादन और इनपुट खरीदारी में ग्रोथ आई. हालांकि, अगस्त में सबकुछ अच्छा रहा है. ऐसा नहीं है. नौकरियां संकट अभी बना हुआ है.

इससे अब क्या होगा- एसकोर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल का कहना हैं कि, पीएमआई आंकड़ों में आया सुधार, भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा संकेत हैं. हालांकि, इसकी उम्मीद पहले से लगाई जा रही थी, क्योंकि दिसंबर में भी मैन्‍युफैक्‍चरिंग एक्टिविटी बढ़ती हुई नज़र आई.

क्या होता हैं पीएमआई –

अगर आसान शब्दों में कहें तो पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्‍स (PMI), मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर की आर्थिक सेहत को मापने का एक इंडिकेटर है. इसके जरिए किसी देश की आर्थिक स्थिति का आकलन लगाया जाता है. मैन्युफैक्चरिंग के अलावा, सर्विस सेक्टर के लिए पीएमआई आंकड़े जारी होते हैं. दुनिया के सभी देशों की तुलना एक जैसे मापदंड से होती है.

पीएमआई आंकड़ों में 50 को आधार माना गया है. साथ ही इसको जादुई आंकड़ा भी माना जाता है. 50 से ऊपर के पीएमआई आंकड़े को कारोबारी गतिविधियों के विस्तार के तौर पर देखा जाता.

जबकि 50 से नीचे के आंकड़े को कारोबारी गतिविधियों में गिरावट के तौर पर देखा जाता है. यानी 50 से ऊपर या नीचे पीएमआई आंकड़ों में जितना अंतर होगा, कारोबारी गतिविधि में क्रमश: उतनी ही वृद्धि और कमी मानी जाएगी.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button