छत्तीसगढ़

स्टेशन के बाहर मूसलाधार बारिश के बीच सांकेतिक प्रदर्शन एवं नारेबाजी

सुशील जैन ने किया कार्यक्रम का संचालन

अकलतरा: रेल प्रशासन बिलासपुर द्वारा लगातार दो सालों से यात्रियों की भारी पीड़ा एवं तकलीफों को नजर अंदाज करते हुए यात्री गाड़ियों को रद्द करने एवं अकलतरा की कई सालों पुरानी मांगों को पूरा नहीं किए जाने के विरोध में आज रेलवे प्रबंधन के खिलाफ मूसलाधार बारिश के बीच विरोध प्रदर्शन कर नारेबाजी की।

रेल संघर्ष समिति के अध्यक्ष संतोष अग्रवाल ने बताया

रेल संघर्ष समिति के अध्यक्ष संतोष अग्रवाल ने बताया कि पिछले करीब 6-7 सालों से अकलतरा की मांगों मुम्बई मेल, आजाद हिन्द एक्सप्रेस एवं हापा एक्सप्रेस के स्टापेज देने, प्लेटफार्मों पर कोच इंडिकेशन बोर्ड लगाने, प्लेटफार्म नंबी 1 एवं 2 की लंबाई बढ़ाने,

नर्मदा एक्सप्रेस को झारसुगुड़ा तक विस्तारित करने, शाम लगभग 5 बजे बिलासपुर से रायगढ़ तरफ के लिए नई मेमू/पैसेंजर चलाने, अप 68737 रायगढ़-बिलासपुर मेमू का टाइम पूर्ववत्‌ करने आदि मांगों को लेकर सतत्‌ संघर्ष किया जा रहा है।

इसके लिए दिल्ली से लेकर बिलासपुर तक मंत्री से लेकर सभी जिम्मेदार अधिकारियों को अनेक पत्र लिखने, विधायक सौरभ सिंह एवं लक्ष्मण मुकीम के नेतृत्व में बिलासपुर में कई महाप्रबंधकों तथा डीआरएम लोगों के साथ मीटिंग करने के बावजूद मांगें पूरी नहीं की जा रही है।

ट्रेनों को रद्द करने का जनविरोधी काम रेल प्रशासन द्वारा शुरु

इसी बीच यात्री ट्रेनों को रद्द करने का जनविरोधी काम रेल प्रशासन द्वारा शुरु कर दिया गया। लाख विरोधों के बावजूद रेलवे के अधिकारी ट्रेनों को सामान्य रुप से नहीं चला रहे हैं। संतोष अग्रवाल ने बताया कि 6 अक्टूबर को धरना प्रदर्शन के बाद भी जनता की आवाज नहीं सुनी जाएगी, तो मजबूर होकर आंदोलन का और विस्तार किया जाएगा।

लक्ष्मण मुकीम ने कहा कि ट्रेनों को रद्द करने एवं अकलतरा की मांगों को पूरा नहीं करने के खिलाफ अकलतरा समेत पूरे क्षेत्र के लोग आक्रोशित हैं, किन्तु रेल प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने भरोसा दिया कि रेल संघर्ष समिति के सभी कार्यक्रमों को अकलतरा वासियों का सहयोग एवं समर्थन जारी रहेगा।

क्षेत्रवासियों की रेल प्रशासन से की जा रही मांग वाजिब

मंजू सिंह ने कहा कि नगर एवं क्षेत्रवासियों की रेल प्रशासन से की जा रही मांग वाजिब है। रेल संघर्ष समिति द्वारा विगत 8-10 वर्षों से नगर में रेल सुविधाओं की मांग को लेकर रेल प्रशासन का अवगत कराया जा रहा है,

रेल प्रशासन को क्षेत्रवासियों की मांग से कोई सरोकार नहीं

लेकिन रेल प्रशासन को क्षेत्रवासियों की मांग से कोई सरोकार नहीं है, जो रेल प्रशासन की संवेदनहीनता को प्रदर्शित करता है। रमेन्द्र सिंह चौहान ने कहा कि यह रेल प्रशासन की निरंकुशता एवं तानाशाही ही है जो शांतिपूर्वक संघर्षों के प्रति आंखें मूंदे हुए हैं, लेकिन उसको जनता की जायज मांगों को मानना ही पड़ेगा। नहीं तो स्थिति बेकाबू हो सकती है।

नगरपालिका अध्यक्ष खुलन सोनवानी ने कहा कि लोगों के धैर्य की परीक्षा न लेते हुए रेलवे को अकलतरा के लोगों की मांगें शीघ्र माननी चाहिए। राधेश्याम शर्मा ने रेलवे के रवैये को पूरी तरह से असंवेदनशील एवं यात्री विरोधी करार देते हुए लोगों से आगामी 6 तारीख के धरना प्रदर्शन को भी आज की तरह जोरशोर से समर्थन प्रदान करें। मुकेश शर्मा ने अपील करते हुए लोगों से आंदोलन में शामिल होने का आग्रह किया।

इस दौरान राजेश्वर पाटले, देवेन्द्र जैन, कमल केडिया, गोपेश तुलस्यान, सत्यभामा वैष्णव ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन सुशील जैन व आभार प्रदर्शन दिपेन्द्र सिंह ने किया। कार्यक्रम में कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए बड़ी संख्या में बिलासपुर, चांपा तथा स्थानीय पुलिस के जवान तैनात थे।

इस दौरान डॉ. केआर अग्रवाल, राजकुमार गुप्ता, प्रभात बगड़िया, आरसी मिश्रा, एमएल साहू, अविनाश सिंह, कामेश अग्रवाल, नरेश अग्रवाल, दीपक सिंघानिया, अनिल सिंह, सुशांत सिंह, मंगल केडिया, नरेश केडिया, कमल केडिया, विनोद सिंघानिया, गगन सिंघानिया,

राजीव दीक्षित, प्रदीप केडिया, सत्तू साहू, शहजादा खान, गोलू सौदागर, गोलू साहू, अंकित सिंह, रविन्द्र सिंह, आर वेंकट राव, इरशाद बाबा, ओमप्रकाश साहू, श्रीमती गौरीरानी, दिपेश देवांगन, आशीष केडिया, गप्पू शर्मा, सौरभ जैन, गोविन्द मित्तल, निशु शर्मा,

बुड्डा खान, हरनारायण साहू, हर्षवर्धन सिंह, अंकुल लिखमानिया, जयदीप सिंह बैस, अमित यादव, विजय यादव सहित बड़ी संख्या में नगरवासी उपस्थित थे।

Tags
Back to top button