इंदौर की अमी का हुआ विश्व टीम ट्रॉफी के लिए चयन

इसमें तीन महिला तथा तीन पुरुष खिलाड़ियों का चयन किया गया है।

इंदौर की अमी कमानी का चयन पेरिस में होने वाली विश्व टीम ट्रॉफी के लिए किया गया है। वह इस ट्रॉफी के लिए भारत के साथ ही एशियाई उपमहाद्वीप चुनी गई एकमात्र खिलाड़ी हैं।

11 और 12 मार्च को होने वाले इस टूर्नामेंट को बिलियड्‌र्सस्नूकर को 2024 ओलिंपिक खेलों में लाने की मुहिम के तहत आयोजित किया जा रहा है। इसमें तीन महिला तथा तीन पुरुष खिलाड़ियों का चयन किया गया है।

पेरिस में 2024 में होने वाले ओलिंपिक खेलों में अपने खेल बिलियड्‌र्सस्नूकर को लाने की मुहिम का जिम्मा इंदौर की अमी कमानी के कंधों पर रहेगा।

अंतरराष्ट्रीय बिलियड्‌र्स-स्नूकर फेडरेशन (आईबीएसएफ) ने अमी का चयन विश्व टीम ट्रॉफी के लिए किया है।

यह टूर्नामेंट 11 और 12 मार्च को पेरिस में होगा। वह इस आयोजन के लिए भारत के साथ ही एशियाई उपमहाद्वीप से चुनी गई एकमात्र खिलाड़ी हैं।

इस टूर्नामेंट के आधार पर ही बिलियड्‌र्स-स्नूकर खेल का ओलिंपिक खेलों में जगह बनाने की भविष्य टिका रहेगा।
इसका आयोजनफ्रांसीसी फेडरेशन ने विश्व बिलियड्‌र्स-स्नूकर एसोसिएशन की मदद से किया है।

इस दौरान अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति (आईओसी) के पदाधिकारी भी मौजूद रहेंगे।

टूर्नामेंट के लिए तीन महिला तथा तीन पुरुष खिलाड़ियों का चयन किया गया है।

अमी के अलावा अन्य दो महिला खिलाड़ियों में रूस की एनेस्तेसिया नेचाएवा और ऑस्ट्रेलिया की जैसिका वुड्‌स शामिल है।

विश्व की तीसरे क्रम की अमी ने पिछले साल भारत के लिए चार पदक जीते थे।

उन्होंने एशियाई महिला स्नूकर चैंपियनशिप में खिताब जीता था जबकि विश्व महिला स्नूकर और विश्व महिला सिक्स रेड चैंपियनशिप में उन्हें कांस्य पदक हासिल किया था।

उन्होंने विद्या पिल्लई के साथ विश्व महिला टीम स्नूकर में रजत पदक हासिल किया था।

अमी ने उम्मीद जताई कि वह अपने इस खेल को ओलिंपिक में शामिल कराने में सफल रहेंगी।

उन्होंने कहा, मेरी पूरी कोशिश रहेगी कि यह खेल ओलिंपिक खेलों का हिस्सा बनें।

भारत से मुझे इसके लिए चुना गया है तो यह मेरे लिए सम्मान की बात है।

उन्होंने कहा- भारत में क्रिकेट के अलावा ओलिंपिक खेलों को ही ज्यादा महत्व मिलता है।

अन्य खेलों को ज्यादा तवज्जो नहीं मिलती। देश में इस खेल नेकई विश्व चैंपियन दिए हैं, लेकिन इसके बावजूद यह खेल सुर्खियां नहीं बना पाता।

पंकज आडवाणी जैसे खिलाड़ियों को भी इतना सम्मान नहीं मिल पाता, जिसके वह हकदार हैं।

यदि हमारा खेल ओलिंपिक में शामिल हो जाता है तो भारत के लिए भी बहुत अच्छा रहेगा और उसके पदक जीतने की उम्मीदें बढ़ जाएंगी।

मैं वहां उन जैसे सभी खिलाड़ियों का भी प्रतिनिधित्व करूंगी और अपनी ओर से पूरा प्रयास करूंगी।

1
Back to top button