मध्यप्रदेश

Indore News: कोरोना पॉजिटिव छात्र को जेईई देने से रोका, आइआइटी और एमएचआरडी को कोर्ट का नोटिस

छात्र ने कोर्ट में मांग रखी है कि उसकी जेईई की परीक्षा अलग से आयोजित की जाए।

Indore News इंदौर। कोरोना पॉजिटिव होने पर आइआइटी की प्रवेश परीक्षा जेईई में शामिल नहीं हो पाने वाले छात्र कुलदीप उपाध्याय ने हाई कोर्ट की शरण ली है। छात्र की याचिका पर कोर्ट ने नोटिस जारी कर परीक्षा के आयोजक आइआइटी दिल्ली, आइआइटी कानपुर के साथ ही मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) व केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और इंदौर कलेक्टर से तीन हफ्ते में जवाब मांगा है।

छात्र ने कोर्ट में मांग रखी है कि उसकी जेईई की परीक्षा अलग से आयोजित की जाए। याचिका का निराकरण होने तक जेईई एडवांस का रिजल्ट घोषित करने पर भी रोक लगाई जाए।

याचिकाकर्ता कुलदीप मप्र के राजगढ़ का निवासी है। कुलदीप के जेईई मेंस परीक्षा में 96.89 परसेंटाइल थे। वह तीन वर्ष से परीक्षा की तैयारी कर रहा था। उसे 27 सितंबर को आयोजित जेईई एडवांस की परीक्षा में शामिल होना था। छात्र ने कोर्ट को बताया कि कोरोनाकाल में जेईई के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और एमएचआरडी ने विशेष निर्देश (एसओपी) जारी किए थे।

गाइडलाइन के अनुसार कोरोना के लक्षण वाले और संक्रमित विद्यार्थियों की परीक्षा आइसोलेशन कक्ष में ली जानी थी। छात्र के वकील नितिन सिंह भाटी के अनुसार परीक्षा के पहले छात्र ने खुद ही राजगढ़ में रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाया। उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। हालांकि उसे कोरोना के कोई लक्षण नहीं थे।

उसने खुद ही जेईई की हेल्पलाइन पर इसकी जानकारी दी। परीक्षा वाले दिन तक उसे किसी तरह का कोई जवाब नहीं दिया गया। परीक्षा देने जब वह केंद्र पर पहुंचा तो उसने अन्य छात्रों की सुरक्षा का ध्यान रख खुद ही पॉजिटिव होने की जानकारी दी। उसे आइसोलेशन कक्ष में बैठाने की बजाय परीक्षा हॉल में दाखिल नहीं होने दिया गया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button