राष्ट्रीय

इंदु मल्होत्रा सुप्रीम कोर्ट की जज बन आज रचने जा रही हैं इतिहास- पढ़े पूरी खबर

इंदु मल्होत्रा आज सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर शपथ लेंगी. सीधे जज बननेवाली वो पहली महिला वकील हैं

आज सुप्रीम में कोर्ट इंदु मल्होत्रा जज के पद पर शपथ लेंगी इंदु मल्होत्रा पहली महिला वकील हैं जो जज बन रही हैं , हालांकि सरकार ने उनके साथ भेजे गए दूसरे नाम जस्टिस के एम जोसेफ़ को कॉलेजियम को वापस भेज दिया है. सुप्रीम कोर्ट के कोलेजियम ने जो दो नाम जज के तौर पर नियुक्ति के लिए सरकार को भेजे थे उनमें से एक इंदु मल्होत्रा का नाम तो स्वीकार कर लिया गया है लेकिन जस्टिस के एम जोसेफ का नाम कोलेजियम को वापस भेज दिया है विचार के लिए.

वहीं सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को इंदु मल्होत्रा की जज के रूप में नियुक्ति के वांरट पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था. चीफ जस्टिस ने कहा कि ये कैसी जनहित याचिका है? केंद्र सरकार अगर सिफारिश को वापस भेजती है तो ये उसके अधिकार क्षेत्र में है. चीफ जस्टिस ने कहा कि ‘अगर कॉलेजियम दोबारा इस सिफारिश को भेजता है तो विवाद खत्म हो जाएगा. चीफ जस्टिस ने इंदिरा जय सिंह से कहा कि ये अर्जी अकल्पनीय, सोच से बाहर और कभी नहीं सुनी नहीं गई है.’

सुप्रीम कोर्ट में जज बनने वाली देश की पहली महिला वकील होंगी इंदु मल्होत्रा

इंदिरा जयसिंह ने कहा था कि ‘हम करीब सौ वकील याचिका दाखिल कर रहे हैं और सरकार के फैसले को चुनौती दे रहे हैं कि कैसे सरकार जस्टिस के एम जोसफ का नाम इंदू मल्होत्रा से अलग किया गया. ये गैरकानूनी है. इंदू की नियुक्ति के वारंट पर रोक लगे.”

कॉलेजियम से पुनर्विचार की मांग, सरकार ने वापस भेजा जस्टिस जोसेफ का नाम: सूत्र

सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्ति को लेकर इंदिरा जयसिंह और चीफ जस्टिस के बीच गर्मागर्म बहस हुई है. चीफ जस्टिस ने कहा कि आप सुबह कठुआ मामला लेकर आईं तो हमें लगा कि आप ऐसे गंभीर मामलों पर चिंतित हैं. लेकिन अब आप ये मुद्दा लेकर आई हैं. आप के बीच की महिला वकील सुप्रीम कोर्ट की जज बन रही हैं और आप इसे रोकने को कह रही हैं?

सरकार का जस्टिस जोसेफ का नाम वापस भेजने पर कॉलेजियम के पास ये है विकल्‍प

टिप्पणियांसुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के करीब 100 वकीलों ने याचिका दाखिल कर इंदु मल्होत्रा की नियुक्ति वाले वारंट को रद्द करने की मांग की थी. इतना ही नहीं, इस मामले पर अब कांग्रेस और बीजेपी भी आमने-सामने आ गई है.

गौरतलब है कि न्यायमूर्ति जोसेफ और मल्होत्रा के संबंध में सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की फाइल 22 जनवरी को कानून मंत्रालय को मिली थी. मल्होत्रा की नियुक्ति को मंजूरी देने के बाद अब सरकार ने न्यायमूर्ति के एम जोसेफ की पदोन्नति रोके रखने का फैसला किया है. न्यायमूर्ति जोसेफ उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, केंद्र सरकार ने जस्टिस जोसेफ की सिफारिश पर पुनर्विचार करने के लिए कॉलेजियम को कहा है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
इंदु मल्होत्रा सुप्रीम कोर्ट की जज बन आज रचने जा रही हैं इतिहास- पढ़े पूरी खबर
Author Rating
51star1star1star1star1star
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.