छत्तीसगढ़

कोविड अस्पतालों में रिक्त बेड की जानकारी आम नागरिकों को दी जाये : कलेक्टर भीम सिंह

सहायक कलेक्टर चन्द्रकांत वर्मा को सौंपी गई कोविड अस्पतालों की मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

  • वृद्धजन, डायबिटिज तथा ब्लड प्रेशर के मरीज अपने घरों में आईसोलेशन में रहे

रायगढ़, 12 नवम्बर 2020: कलेक्टर भीम सिंह ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में कोविड अस्पतालों में भर्ती कोरोना संक्रमित मरीजों की लगातार हो रही मृत्यु पर चिंता व्यक्त करते हुये मृत्यु के कारणों की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान यह जानकारी सामने आयी कि मरीजों एवं उनके परिवार के सदस्यों द्वारा कोरोना संक्रमण के जांच में देरी, मेडिकल स्टोर्स से सीधे दवाईयां लेकर खाने तथा कोविड अस्पतालों में भर्ती किये जाने में विलंब के कारण मृत्यु के प्रकरणों में बढ़ोत्तरी हो रही है। ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकांश व्यक्ति सर्दी, खांसी, बुखार के मामले में सेंपल जांच के लिये आगे नहीं आ रहे है और धान कटाई तथा अन्य कार्यों में व्यस्त होना बताकर सेम्पल जांच से कतरा रहे है, जबकि जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में कोरोना सेम्पल जांच की सुविधा उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें :-खरीफ विपरण वर्ष 2020-21 : समर्थन मूल्य पर धान विक्रय करने हेतु किसानों के पंजीयन अवधि में वृद्धि

कलेक्टर सिंह ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को अधिक से अधिक सेम्पल जांच के नमूने मात्रा में लिये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले के सभी जनपद सीईओ को निर्देशित किया कि अपने-अपने क्षेत्र में सभी सरपंच तथा जनप्रतिनिधियों की बैठक आयोजित कर अथवा वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से मिटिंग करके अधिकांश संख्या में ग्रामवासियों के कोरोना सेम्पल जांच करावे तथा ग्रामीणों को सेम्पल जांच के लिये प्रेरित करें और बतावें कि छोटी सी लापरवाही उनके तथा उनके परिवार के सदस्यों के लिये खतरा उत्पन्न कर सकती है। इसलिये बीमारी का कोई भी लक्षण दिखाई देने पर तत्काल शासकीय अस्पतालों में इलाज के लिये जाये, समय पर इलाज मिलने से कोरोना संक्रमित मरीज की जान बचाई जा सकती है।

कलेक्टर सिंह ने कहा कि जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिये कोविड अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में सामान्य, आईसीयू एवं ऑक्सीजन सुविधायुक्त बेड तथा वेन्टीलेटर उपलब्ध है और आम नागरिकों की जानकारी के लिये कौन से कोविड अस्पताल में कितने बेड उपलब्ध है इसकी निरंतर सूचना विभिन्न प्रचार माध्यमों तथा मीडिया से दी जायेगी और वेबसाइट पर भी अपडेट किया जायेगा। यदि किसी मरीज को ऑक्सीजन सुविधायुक्त बेड की आवश्यकता होगी तो मरीज स्वयं अथवा उसके परिवार के सदस्य काल सेंटर फोन नंबर 07762-232668 या 07762-228000 पर जानकारी प्राप्त कर कोविड अस्पतालों में उपलब्ध सुविधा प्राप्त कर सकते है।

यह भी पढ़ें :-रेत के अवैध परिवहन में वाहन मालिकों को 53 हजार रूपये का अर्थदण्ड

कलेक्टर सिंह ने कोरोना संक्रमित मरीजों के होम आईसोलेशन में इलाज के लिये डॉक्टर्स को दिन में दो बार मरीज से सीधे बात करने के निर्देश दिये तथा होम आईसोलेशन वाले घरों के सभी सदस्यों को घरों से बाहर निकलने पर प्रतिबंध लगाने तथा ऐसे घरों को चिन्हांकित कर रस्सी के माध्यम से घेरा बनाने को कहा। उन्होंने इन नियमों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों तथा उनके परिवार के मुखिया के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिये।

कलेक्टर सिंह ने सभी कोविड अस्पतालों के प्रबंधन और डॉक्टर्स को आपसी समन्वय के साथ मीटिंग करके डॉक्टर्स और मेडिकल स्टॉफ की कमी दूर करने को कहा और आवश्यकता के अनुसार मेडिकल कालेज में अतिरिक्त सफाई कर्मचारियों की नियुक्ति के लिये डीन डॉ.लुका को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि डॉक्टर्स की कमी होने पर जिन जिलों में कोरोना संक्रमण में कमी आयी है शासन स्तर से उन जिलों से रायगढ़ के लिये डॉक्टर्स बुलाये जायेंगे।

यह भी पढ़ें :-स्वास्थ्य विभाग को मिली 20 नई एम्बुलेंस, स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

कलेक्टर सिंह ने जिले के सभी कोविड अस्पतालों की मॉनिटरिंग तथा मरीजों के इलाज की व्यवस्था के लिये सहायक कलेक्टर चंद्रकांत वर्मा को जिम्मेदारी सौंपते हुये कहा कि जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या भले ही बढ़ रही है परंतु सभी के लिये इलाज भी उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि कोविड अस्पतालों में साफ-सफाई, पेयजल व्यवस्था तथा स्वादिष्ट भोजन व्यवस्था निरंतर बनी रहनी चाहिये।

कलेक्टर सिंह ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम व बचाव के लिये प्रशासन की ओर से सभी आवश्यक प्रबंध किये गये है हमारा मुख्य प्रयास कोविड मरीजों की मृत्यु रोकना आवश्यक है, इसलिये अस्पतालों के प्रभारी यह ध्यान रखें कि उनके पास कोई मरीज आता है तो उसकी केश हिस्ट्री के अनुसार तत्काल इलाज प्रारंभ हो जाये। उन्होंने सभी वृद्ध नागरिकों तथा डायबिटिज, ब्लडप्रेशर तथा किडनी से संबंधित बीमारियों के मरीजों को स्वयं को अपने घरों में आईसोलेट करने को कहा तथा बहुत ही आवश्यक होने पर ही घरों से बाहर निकलें तथा मॉस्क और सोशल डिस्टेसिंग का पालन करें। कोरोना से बचाव का यही कारगर और प्रभावी उपाय है।

समीक्षा के दौरान सहायक कलेक्टर चंद्रकांत वर्मा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एस.एन.केशरी, मेडिकल कालेज के आईसीयू प्रभारी डॉ.लकड़ा, कोविड अस्पतालों के प्रभारी डॉक्टर्स तथा मेट्रो अस्पताल, अपेक्स अस्पताल, जिंदल अस्पताल और जेएमजी मिशन अस्पताल प्रबंधक औरचिकित्सा प्रभारी उपस्थित थे। मेडिकल कालेज के डीन वीडियो कान्फे्रंसिंग के माध्यम से बैठक में जुड़े रहे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button