आयुष मंत्रालय की पहल, अब वर्क प्लेस पर भी ‘योगा ब्रेक एप’ रखेगा आपके स्वास्थ्य का खयाल

देश के लोगों को योग के प्रति जागरूक करने के लिए बुधवार को आयुष मंत्रालय ने योगा ब्रेक नाम से एक एप लॉन्च किया। इस एप की मदद से वर्क प्लेस पर योग को बढ़ावा दिया जा सकेगा और लोगों के स्वास्थ्य को बेहतर करने के साथ-साथ उन्हे तनाव से मुक्ति दिलाई जा सकेगी।

योगा ब्रेक एप में क्या है खास ?

दरअसल, योगा ब्रेक में पांच मिनट बताए गए आसन, प्राणायाम और ध्यान को करने से कार्यक्षेत्र में लोगों की कार्य करने की क्षमता में वृद्धि होगी, साथ ही तनाव से भी मुक्ति मिल सकेगी। योगा ब्रेक एप की शुरुआत आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने की है। बताना चाहेंगे नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल, केन्द्रीय मंत्री किरेन रिजिजू , संस्कृति राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी, डॉ मुंजापारा महेन्द्र भाई, डॉ. जितेन्द्र सिंह भी मौजूद थे।

किसने बनाया यह एप ?

इस योगा ब्रेक एप को मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान, आयुष मंत्रालय और कई अन्य दूसरी संस्थान जैसे कृष्णमाचार्य योग मंदिरम-चेन्नई, रामकृष्ण मिशन विवेकानंद शैक्षिक और अनुसंधान संस्थान-बेलूर मठ, निमहंस बेंगलूरू और कैवल्यधाम स्वास्थ्य और योग अनुसंधान केंद्र-लोनावाला ने मिलकर बनाया है। इसमें एक्सपर्ट्स आपको पांच मिनट में योग करना सिखाएंगे।

कैसे करें डाउनलोड ?

बता दें इस मॉड्यूल को जनवरी 2020 में छह प्रमुख मेट्रो शहरों में विभिन्न हितधारकों के साथ समन्वय में पायलट परियोजना के तौर पर लॉन्च किया गया था। देश के छह प्रमुख योग संस्थानों के साथ मिलकर मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान द्वारा कुल 15 दिनों का परीक्षण किया गया, जिसमें विभिन्न निजी और सरकारी निकायों के कुल 717 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया और ट्रायल काफी सफल रहा। प्रोटोकॉल पर फीडबैक काफी उत्साहजनक रहा है। इस खास एप की मदद से अब आप भी घर बैठे एक्सपर्ट्स से महज पांच मिनट में योग सीख सकेंगे। यह एप गूगल प्ले स्टोर और एप स्टोर से बिल्कुल फ्री डाउनलोड किया जा सकता है।

लोगों के स्वास्थ्य को सुधारने में होगी बड़ी मदद

एप लॉन्चिंग कार्यक्रम के दौरान आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि इस एप की मदद से कार्यस्थल पर लोगों के स्वास्थ्य को सुधारने में मदद होगी। उन्होंने कहा, हम जानते हैं कि कॉर्पोरेट पेशेवर अक्सर अपने व्यवसाय के कारण तनाव और शारीरिक समस्याओं का अनुभव करते हैं। वास्तव में, दूसरे पेशेवरों को भी ऐसी समस्याएं होती हैं। कामकाजी आबादी को ध्यान में रखते हुए यह वाई-ब्रेक विकसित किया गया है, जो कार्यस्थल पर कर्मचारियों को कुछ आराम देगा। इस वाई-ब्रेक का, अगर पूरी तन्मयता से अभ्यास किया जाए तो लोगों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने में एक प्रमुख भूमिका निभा सकता है।

दुनियाभर में योग की मान्यता पर बात करते हुए, आयुष मंत्री ने कहा, ‘योग अब दुनियाभर में लोकप्रिय है। यह दुनिया के लगभग हर हिस्से में पहुंच चुका है। लोग किसी न किसी रूप में योग का अभ्यास करते हैं, यह आध्यात्मिक या स्वास्थ्य उद्देश्यों के लिए फायदेमंद है। योग के प्राचीन भारतीय अभ्यास के पीछे के दर्शन ने भारतीय समाज के कार्य करने के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित किया है, चाहे वह स्वास्थ्य और चिकित्सा के संबंध में हो या शिक्षा व कला जैसे क्षेत्रों में।’

वहीं विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, ‘हम योग को बढ़ावा देने के लिए डिजिटल तकनीक का उपयोग कर रहे हैं, यह वास्तव में काबिले तारीफ है। मैं केंद्रीय कानून मंत्री से कार्यस्थल पर 5 मिनट के लिए योग पर कानून बनाने का आग्रह करता हूं ताकि लोग इसका लाभ उठा सकें। आगे जोड़ते हुए राज्य मंत्री जीतेंद्र सिंह ने कहा कि मैं ऐसा कहूंगा कि योग, जिसका जन्म वास्तव में भारत में हुआ था, कई साल तक विदेश की यात्रा करता रहा और फिर पुन: लौटकर अब यह भारत में आया है। इसका सबसे बड़ा श्रेय और धन्यवाद का पात्र यदि कोई है तो वह केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं।

‘यह जंगल की आग की तरह फैल जाएगा’- किरेन रिजिजू

कानून और न्याय मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा, ‘आयुष मंत्रालय बहुत ही आसान तरीके से योग का प्रचार कर रहा है, जो काफी सराहनीय है और मुझे यकीन है कि वाई-ब्रेक ऐप जंगल की आग की तरह फैल जाएगा।’
गौरतलब हो यह लॉन्च ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ का एक हिस्सा था, जो भारत सरकार द्वारा स्वतंत्रता के 75वें वर्ष का जश्न मनाने के लिए आयोजित कार्यक्रमों की एक श्रृंखला है। आयुष मंत्रालय को आयुष की कई गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए 30 अगस्त से 5 सितंबर 2021 तक एक सप्ताह आवंटित किया गया है, जिसमें वाई-ब्रेक का शुभारंभ, आयुष प्रणालियों पर स्कूलों के लिए शिविर आयोजित करना, रोगनिरोधी दवा के रूप में अश्वगंधा का शुभारंभ और किसानों व जनता को औषधीय पौधों का वितरण शामिल है।

वाई-ब्रेक एप्लिकेशन में योग प्रोटोकॉल के तहत ये सरल अभ्यास शामिल :

ताड़ासन-उर्ध्व-हस्तोत्तानासन- ताड़ासन

स्कंध चक्र- उत्तानमंडूकासन- कटिचक्रासन

अर्धचक्रासन, प्रसार पदोत्तानासन- गहरी सांसें

नाड़ी शोधन प्राणायाम

भ्रामरी प्राणायाम – ध्यान

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button