स्याही खत्म, 500 रुपये के नोटों की छपाई बंद

नासिक नोट प्रेस में नोट छपने की स्याही ख़त्म, छपाई बंद गहराया संकट

नई दिल्ली: देश में जहा कैश की कमी से लोगों को परेशानियाँ हो रही है वही अब खबर मिल रही है की नोटों की छपाई में इस्तमाल किए जाने वाली स्याही ख़त्म हो गया गई. जिसके कारण नए नोटों की छपाई में रुकावट आ गई हैं ये कमी तब आई हैं जब सरकार ने ज्यादा नोट छापने के लिए कहा हैं.

बता दी की देश में कैश की कमी के चलते सरकार ने आरबीआई को बड़ी तादाद में 200 और 500 रुपये के नए नोटों की छपाई के लिए कहा था. लेकिन इतनी बड़ी तादाद को पूरा करने का काम नासिक नोट प्रेस में चल रहा था. जिस खास स्याही का इस्तमाल नोट छापने में किया जाता हैं. उसके ख़त्म हो जाने से नासिक नोट प्रेस में 200 और 500 के नोटों की छपाई का काम रुक गया है.

छापाखाना कामगार परिसंघ के अध्यक्ष का कहना है की “नोटों को छापने के लिए जिस स्याही का इस्तेमाल होता है उसे आयात किया जाता है. ये स्याही वर्तमान समय में उपलब्ध नहीं है. इसके कारण 200 रुपये और 500 रुपये के नोटों की छपाई रुक गई है.” और उन्होंने कहा की देश में कैश की कमी का कारण स्याही ख़त्म होना भी हो सकता है. पर छापाखाना कामगार परिसंघ के अध्यक्ष ने यह नहीं बताया की स्याही कब ख़त्म हुई और छपाई का काम कब से बंद हैं.

यह बात तब उजागर हुई है जब सरकार ने पांच गुना ज्यादा 500 के नोटों की छपाई के आदेश दिए हैं. सरकार अगले महीने तक 75 हजार करोड़ रुपये के नए नोटों की पूर्ति करना चाहती हैं.
बताया जा रहा है की नवंबर महीने से 500 के नोटों की कमी आई है जबकि 200, 100 और 50 के नोटों की छपाई में कमी अप्रैल से आई हैं.

Back to top button