निरीक्षक अविनाश सिंह रहे यथावत, लखनलाल पटेल को कोतवाली कोरबा की बड़ी जिम्मेदारी

अरविन्द शर्मा:

कोरबा:जिला पुलिस कप्तान ने निरीक्षक ट्रांसफर लिस्ट में संशोधन करते हुए नई लिस्ट जारी की है जिसमे थाना कटघोरा निरीक्षक अविनाश सिंह को यथावत रखते हुए निरीक्षक लखनलाल पटेल को कोतवाली कोरबा की जिम्मेदारी सुनिश्चित की गई है।

जिला कोरबा पुलिस विभाग में तीन दिन पूर्व निरीक्षक ट्रांसफर सूची जारी हुई थी जिसमे पुलिस कप्तान ने एकाएक सूची में संशोधन किया है।फेरबदल के दौरान थाना कटघोरा निरीक्षक अविनाश सिंह को कटघोरा यथावत रखते हुए थाना उरगा निरीक्षक लखनलाल पटेल को कटघोरा से संसोधन कर कोतवाली कोरबा तय किया गया है।

एकाएक ट्रांसफर सूची में दो निरीक्षको के फेरबदल में संसोधन होना समझ से परे है पर कटघोरा में निरीक्षक अविनाश सिंह के यथावत रहने से नगर में खुशी का माहौल है।इन दिनों लाग डाउन जैसे हालात निर्मित है और ऐसे हालातो में इनकी कार्यशैली नगर में बेहद सराहनीय रही है।थाना प्रभारी के मार्गदर्शन में पुलिस द्वारा आमनागरिको को हर सम्भव मदद भी मिली है।कई निर्धन व असहाय परिवारों को निरीक्षक ने स्वयं राशन,दवाइयां व अन्य सहायता प्रदान की है।श्री सिंह युवा होने के नाते युवावर्ग की पहली पसंद भी हैं और इन्होंने आमजन के साथ पुलिस का रिश्ता बखूबी तरीके से पेश किया है।थाने में फरियादी की समस्याओ को शांतिपूर्ण तरीके से सुनकर उन्हें मार्गदर्शन प्रदान कर न्यायसंगत कार्यवाही की है।

कटघोरा में पुलिस की बड़ी बड़ी कार्यवाही होना भी इनकी कार्यशैली का बड़ा हिस्सा रहा है।पूर्व में डिप्टी रेंजर मर्डर मिस्ट्री मामला,बैटरी चोर गिरोह का पर्दाफाश, अवैध शराब जैसे बड़े मामलों पर कार्यवाही की है। कानूनी व्यवस्था बनाये रखने में भी इनकी भूमिका सराहनीय रही है चाहे आरोपी गरीब तपके का रहा हो या बड़ा रसूखदार पुलिस की कार्यवाही निःस्वार्थ भाव से हुई है।जुआ के एक मामले पर इन्होंने जता दिया था कि आरोपी चाहे कितना भी पहुँच परख वाला धनाढ्य हो,कानून की नजर में आरोपी है।

“निंदा” उसी की होती है….

पुरानी कहावत है,”निंदा उसी की होती है जो जिंदा है,तारीफ तो हमेशा मरे हुए की होती है,,इस कथन का तात्पर्य यह है कि जो लोग पुलिस की कार्यशैली पर अंकुश लगाकर पीठ पीछे निंदा कर अपने आपको तृप्त महशूस करते हैं वे अगर अपराध व घटनाओं को निःस्वार्थ भाव से पुलिस को अवगत कराये तो कार्यवाही भी निश्चित रूप से तय है। दरअसल अनगर्ल सूत्रों से यह विदित है कि नगर में कई अवैध कार्य संचालित है जिसमे मुख्यरुप रूप से अवैध शराब है और पुलिस मूकदर्शक बन कर शरणार्थी बनी बैठी है।
ऐसे अनगर्ल सवालों व आरोपो से पर्दा उठाने जब प्रभारी से चर्चा की गई तो इन्होंने ऐसे आरोपो को एक सिरे से खारिज करते हुए कहा कि, अवैध शराब बिक्री के मामले मुख्यरुप से आबकारी विभाग के होते हैं और आबकारी विभाग को इसकी जांच कर कार्यवाही करनी होती है।लेकिन जब ऐसे मामले पुलिस के समक्ष बतौर शिकायत स्वरूप आते हैं तो उन पर निश्चित रूप से कार्यवाही हुई है अनगर्ल आरोप लगाने या निंदा करने की बजाय अगर शिकायतें हो तो पुलिस ऐसे मामलों पर पूर्ण गम्भीरता से कार्यवाही तय करती है।

किया आभार व्यक्त…

थाना प्रभारी अविनाश सिंह ने पुलिस कप्तान के यथावत आदेश को स्वीकार कर नगरवासियों का आभार व्यक्त किया है, इन्होंने कहा कि,यह कटघोरा की जनता का स्नेह है कि मुझे पुनः नगर का दायित्व मिला है।नगर की व्यवस्थाएं सुरक्षित बनाये रखने में पुलिस कोई कसर नही छोड़ेगी।
श्री अविनाश सिंह ने यह भी कहा कि,अगर छेत्र में कहीं भी जुर्म,अपराध जैसी घटनाएं नजर आए तो पुलिस को सूचना देकर अच्छे नागरिक का फर्ज निभाये ताकि समय रहते अपराध व घटनाओं पर कार्यवाही सुनिश्चित हो सके।पुलिस जनता की सेवा के लिए है और हर पहलू पर तैनात हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button