मौसमी बीमारियों से बचाव के निर्देश, जांच व उपचार की भी दी जा रही सुविधाएं

अम्बिकापुर।

कलेक्टर किरण कौशल के निर्देर्शानुसार मौसमी बीमारियों के प्रकोप एवं जल जनित रोगों से बचाव के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एनके पाण्डेय द्वारा चिकित्सा अधिकारियों को जरूरी दवाईयों के भण्डारण एवं आवश्यकतानुसार संबंधितों को उपलब्ध कराने के लिए चिकित्सा अधिकारियों एवं कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है।

सीएमएचओ ने बताया है कि किसी भी आपातकालीन परिस्थिति को दृष्टिगत रखकर चिकित्सा अधिकारियों एवं कर्मचारियों के मोबाइल नम्बर अस्पतालों के दीवारों पर अंकित कराने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि मौसमी बीमारियों से निपटने के लिए सभी आवश्यक तैयारियां पूर्ण कर ली गई है।

खासकर पंहुचविहीन एवं महामारी संभावित क्षेत्र में स्वास्थ्य दलों द्वारा गांव-गांव में शिविर लगाकर स्वास्थ्य जॉंच व उपचार की सेवायें दी जा रही हैं।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा मलेरिया, डायरिया एवं उल्टी-दस्त बिमारियों समेत सभी बीमारियों से निपटने के लिए दवाई पर्याप्त मात्रा में रखने के निर्देष सभी खण्ड चिकित्सा अधिकारियों को दिए गए हैं। इसके अतिरिक्त ब्लीचिंग पाउडर एवं क्लोरिंग की दवाईयों का वितरण किया जा रहा है।

जिले एवं विकासखण्ड स्तर पर मौसमी बीमारियों से बचाव एवं रोकथाम हेतु कम्बेट दल का गठन कर लिया गया है। ग्रामीण, दूरस्थ अंचल पर जमीनी कार्यकर्ताओ मितानिनों, एएनएम, एमपीडब्लयू के सहयोग से घर-घर भ्रमण कर स्वास्थ्य जांच एवं आवष्यक दवाईयां उपलब्ध कराई गई जा रही हैं। इसी प्रकार 61 गांवों एवं पारों को पंहुचविहीन मानकर वहां के मितानिनों के पास औषधियों का भण्ड़ारण किया गया है।

जिला सर्विलेंस अधिकारी डॉ. अनिल प्रसाद ने बताया कि मुख्य रूप से मलेरिया, डायरिया, डेंगू, टाईफाईड एवं चिकनगुनिया जैसी बिमारियां बरसात में अधिक देखने को मिलती है। उन्होंने बचाव एवं उपचार के बारे में बताया कि बरसात का पानी गड्ढों में इक्खठा न होने दें, साफ पानी पिये, बासी खाना न खायें, जंगली साग-सब्जी का सेवन न करें तथा अपने आस-पास सफाई रखें, किसी भी तरह का हल्का सर्दी, बुखार या शारीरिक परेषानी होने पर तत्काल अपने आस-पास स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं से सम्पर्क करें।

उन्होंने बताया कि किसी भी क्षेत्र में विपरित स्वास्थ्य परिस्थितियां नजर आने पर क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों और परिवारजनों को तत्काल इनसे सम्पर्क करने की समझाईश दी गई है, ताकि समय पर स्वास्थ्य दल भेजकर स्थितियों पर काबू पाया जा सके। मलेरिया से बचाव के लिए विशेष दवायुक्त मच्छरदानी वितरण किया गया है, इसके उपयोग लोगों को जागरूक किया जा रहा है, मितानीन दवापेटी अपडेट रखने तथा मुख्यालय में निवासरत होने हेतु मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा निर्देषित किया गया है।

चिकित्सा अधिकारियों द्वारा क्षेत्र भ्रमण कर स्वास्थ्य सुविधाओं की उपलब्धता की नियमित रूप से जानकारी ली जा रही है। कलेक्टर ने लोगों से बीमार होने की स्थिति में समीप के अस्पताल में जाकर शीघ्र इलाज कराने का आग्रह किया है। उन्हांने चिकित्सा अधिकारियों एवं कर्मचारियों को भी पूरी सजगता के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन करने के निर्देश दिए हैं।

Back to top button