डोंगरगढ़ चैत्र नवरात्रि मेला हेतु सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने कलेक्टर ने दिए निर्देश

भीड़ नियंत्रण एवं दुर्घटना रहित मेला आयोजन हेतु पुख्ता उपाय करने के दिए निर्देश

राजनांदगांव: कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने जिले के धार्मिक नगरी डोंगरगढ़ के बम्लेश्वरी मंदिर में 6 अप्रैल से प्रारंभ होने वाली चैत्र नवरात्रि मेले में मां बम्लेश्वरी के दर्शन हेतु आने वाले श्रद्धालुओं को जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने एवं मेले के सफलतापूर्वक आयोजन हेतु सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर मौर्य ने डोंगरगढ़ में आयोजित होने वाली चैत्र नवरात्रि मेले को बिना किसी बाधा के निर्विघ्न एवं सफलतापूर्वक संपन्न करने हेतु आज 24 मार्च को कलेक्टोरेट सभाकक्ष राजनांदगांव में आयोजित तैयारी बैठक में संबंधित विभाग के अधिकारियों को उक्ताशय के निर्देश दिए हैं।

इस दौरान उन्होंने पुलिस एवं संबंधित विभाग के अधिकारियों को मेला आयोजन के दौरान भीड़ नियंत्रण एवं दुर्घटना रहित मेला आयोजन की पुख्ता उपाय करने को कहा है। बैठक में पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी तनुजा सलाम, अपर कलेक्टर ओंकार यदु एवं एसएन मोटवानी, एडिशनल एसपी यूबीएस चैहान एवं जीएन बघेल, संयुक्त कलेक्टर एमडी तिगाला, एसडीएम राजनांदगांव मुकेश रावटे, एसडीएम डोंगरगढ़ प्रेमप्रकाश शर्मा, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस डोंगरगढ़ चंद्रा सहित संबंधित विभाग के अधिकारियों के अलावा मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारी एवं समाजसेवीगण उपस्थित थे ।

कलेक्टर मौर्य ने कहा कि जिला व पुलिस प्रशासन, मंदिर समिति, समाजसेवियों एवं आयोजन से जुड़े सभी लोगों का यह प्रयास होनी चाहिए कि मेले के दौरान माता के दर्शन हेतु आने वाले सभी श्रद्धालुओं को आवश्यक सुविधा मुहैया करायी जाय। उन्होने कहा कि डोंगरगढ़ आने वाले श्रद्धालुओं एवं पदयात्रियों को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े। इसके लिये उन्होने जरूरी उपाय एवं व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने को कहा।

कलेक्टर मौर्य ने चैत्र नवरात्रि पर्व में दुर्घटना रहित मेला आयोजन की लक्ष्य की जानकारी देते हुए पुलिस विभाग के अधिकारियों को इसके लिए पुख्ता उपाय करने के निर्देश दिए। मौर्य ने इसके लिए पुलिस अधिकारियों को सुरक्षा की चाक-चैबंध व्यवस्था करने के अलावा मेला स्थल के लिए निर्धारित मार्गों में वाहनों की गति भी निर्धारित कराने को कहा। इसके अलावा उन्होंने मार्गों के अलावा आवश्यक स्थानों पर इसके संबंध में जानकारी प्रदर्शित कराने एवं पाम्पलेट्स का भी वितरण के निर्देश दिए। मौर्य ने निर्धारित गति से अधिक गति से तथा शराब सेवन कर वाहन चलाने वालों पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए।

कलेक्टर ने इसके लिए जांच की भी व्यवस्था करने को कहा। इसके अलावा मार्ग में पर्याप्त मात्रा में संकेतक व अस्थायी ब्रेकर लगाने एवं दुर्घटना जोनों को भी चिन्हित करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने मंदिर परिसर डोंगरगढ़ में माता के दर्शन हेतु उपर एवं नीचे मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ को भी सुरक्षित ढंग से नियंत्रित करने का भी उचित उपाय करने के निर्देश दिए। इसके लिए उन्होने ऊपर मंदिर जाने वाले निचले सीढ़ी से लेकर आवश्यक स्थानों पर बेरिकेटिंग्स आदि की व्यवस्था कराने को कहा। उन्होने ने इन स्थानों में गर्मी की मौसम को देखते हुए पंडाल के आलावा कुर्सी, गद्दा, दरी आदि की भी समुचित व्यवस्था करने को कहा। इसके अलावा स्थान-स्थान पर शुद्ध एवं शीतल पेयजल, ओआरएस आदि की भी प्रबंध करने के निर्देश दिए।

मौर्य ने मेले के दौरान दर्शनार्थियों एवं डोंगरगढ़ में रूकने वाले लोगों को शुद्ध एवं ताजा भोजन, नाश्ता आदि मिल सके इसके लिए उन्होने एसडीएम डोंगरगढ़ एवं मुख्य नगर पालिका अधिकारी डोंगरगढ़ को जरूरी उपाय सुनिश्चित करने को कहा। इसके लिए उन्होने सभी होटल एवं लाज संचालकों की बैठक लेकर सख्त हिदायत देने के निर्देश भी दिए। उन्होने कहा कि किसी भी स्थिति में लोगों को घटिया एवं बासी भोजन तथा नाश्ता नही मिलना चाहिए। इस संबंध में किसी भी प्रकार की शिकायत प्राप्त होने पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी।

इसके लिए उन्होने क्वालिटि इंस्पेक्टर की भी ड्यूटी लगाने को कहा। कलेक्टर ने कहा कि मेले में श्रद्धालुओं को निर्धारित दर पर ही प्रसाद एवं पूजा आदि के सामग्री मिलनी चाहिए। इसके लिए सभी दुकानों में प्रसाद एवं पूजा आदि के सामग्रियों का दर निर्धारित कराने के निर्देश भी दिए। इसके अलावा उन्होने पार्किंग का भी दर निर्धारित करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने इसके लिए एसडीएम एवं एसडीओपी डोंगरगढ़ को बैठक लेकर आवश्यक कार्रवाही करने को कहा।

मौर्य ने इस दौरान मंदिर परिसर के आस-पास एवं डोंगरगढ़ मेें भी साफ-सफाई की समुचित व्यवस्था कराने को कहा। उन्होने कहा कि मंदिर परिसर के आस-पास कचरे एवं गंदगी बिल्कुल भी नही दिखना चाहिए। उन्होने मेला समाप्ति के बाद दो – तीन दिनों तक सफाई अभियान चलाने की भी जानकारी दी। मौर्य ने कहा कि जिला स्तरीय टीम भेज कर सफाई व्यस्था की जांच कराई जाएगी। उन्होने कहा कि मेले के दौरान पॉलीथीन का प्रयोग पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।

बैठक में कलेक्टर ने रोपवे के मेन्टेनेंस आदि की स्थिति की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में रोपवे में ओवर लोडिंग एवं किसी प्रकार की दुर्घटना नहीं होनी चाहिए। इसमें किसी प्रकार की असावधानी बरते जाने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी भी दी। इसके अलावा कलेक्टर ने पदयात्री मार्गों में पेयजल एवं शौचालय आदि की समुचित प्रबंध कराने के निर्देश दिए। उन्होंने ग्राम पंचायतों एवं नगरीय निकायों के पानी टैंकर की भी सेवा लेने को कहा।

मौर्य ने कार्यपालन अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को पेयजल व्यवस्था की पुख्ता इंतजाम करने करने को कहा। बैठक में मौर्य ने विद्युत व्यवस्था की समीक्षा करते हुए कार्यपालन अभियंता मूर्ति को जरूरी व्यवस्थाओं के अलावा विद्युत सुरक्षा के भी पुख्ता प्रबंध करने को कहा। कलेक्टर ने पदयात्री मार्ग में पड़ने वाले सामुदायिक भवनों को ठीक करने एवं जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

इसके अलावा उन्होंने रेल्वे स्टेशन में भी सुविधा केन्द्र स्थापित करने को कहा। मौर्य ने पदयात्री मार्ग एवं डोंगरगढ़ मंदिर पसिर में प्रकाश आदि की व्यवस्था एवं पर्याप्त मात्रा में डस्टबीन लगाने के निर्देश भी दिए। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को पदयात्री मार्ग एवं मेला स्थल में पर्याप्त मात्रा में चिकित्सीय अमले की तैनातगी तथा ग्लूकोज, ओआरएस आदि की समुचित उपलब्धता सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने कहा कि मंदिर परिसर के आस-पास के दुकानों में शराब, गांजा आदि मादक पदार्थों की बिक्री बिल्कुल भी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसा करते पाए जाने पर संबंधित दुकानदार के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। मौर्य ने पुलिस अधीक्षक के साथ पदयात्री मार्ग एवं संपूर्ण मेला स्थल का निरीक्षण करने की भी जानकारी दी। ड्यूटी में तैनात सभी अधिकारियों को फिल्ड विजिट कर तीन दिनों के भीतर जानकारी देने के निर्देश भी दिए। बैठक में पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप एवं अधिकारियों के अलावा मंदिर समिति के सदस्यों ने भी अपना सुझाव दिए।

Back to top button