15 अगस्त से पहले अलर्ट पर खुफिया एजेंसियां, लाल किला होगा एंटी ड्रोन सिस्टम से लैस

दरअसल जम्मू हमले के बाद से ही खुफिया इकाइयां हवाई मार्ग से खतरे का इनपुट मुहैया करा रही हैं।

दिल्ली: देश की बाह्य और आंतरिक सुरक्षा के लिए खुफिया एजेंसिया हर पल अपनी पैनी नजर बनाए हुए हैं। ऐसे में स्वतंत्रता दिवस से पहले सुरक्षा को लेकर बरती जा रही चौकसी के बीच लालकिला को एंटी ड्रोन सिस्टम से लैस करने की तैयारी हो रही है। दरअसल जम्मू हमले के बाद से ही खुफिया इकाइयां हवाई मार्ग से खतरे का इनपुट मुहैया करा रही हैं। ऐसे में स्वतंत्रता दिवस समारोह से पहले सुरक्षा से जुड़े सभी एहतियात बरते जा रहे हैं।

एंटी ड्रोन सिस्टम से लैस होगा लालकिला

आकाश मार्ग की सुरक्षा के तहत जहां एक तरफ तो हेलीकाप्टर पर अत्याधुनिक हथियारों से लैस कमांडो टीम आकाश मार्ग से सुरक्षा की कमान संभालेगी, वहीं आसमान को सुरक्षित करने के लिए ‘एंटी-ड्रोन डिटेक्शन सिस्टम’ की लालकिले पर तैनाती की जाएगी। इसके अलावा दिल्ली पुलिस हवा में उड़ने वाली चीजों पर रोक लगाने के आदेश के लिए सीआरपीसी की धारा 144 के तहत यह निषेधाज्ञा भी जल्द ही जारी करेगी।

16 कमांडो वाहन पराक्रम तैनात

लुटियन जोन इलाके से लेकर लाल किले तक पहुंचने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अन्य वीआईपी रूट पर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए जा रहे हैं। रूट के अलावा लाल किले और आसपास के दायरे में करीब पुलिस ने अत्याधुनिक हथियारों से लैस 16 कमांडो वाहन ‘पराक्रम’ को सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करने के लिए लगाया जा रहा है। सुरक्षा तैयारियों के मद्देनजर इन कमांडो वाहनों के साथ सुरक्षाकर्मी अपनी-अपनी पोजिशन ले रहे हैं। इसमें से कुछ आसपास के इलाके में गश्त भी करेंगी।

लाल किले व आसपास रूफटॉप दस्ते की तैनाती

इसके अलावा लाल किले और आसपास के इलाकों में स्थित उंची इमारतों पर दूरबीन और अत्याधुनिक हथियारों से लैस रूफ टॉप दस्ते की तैनाती की जा रही है। जगह-जगह मचान बनाकर भी कमांडो दस्ते की तैनाती की शुरू कर दी गई है। लालकिले की सुरक्षा में तैनात दिल्ली पुलिस सहित अन्य सुरक्षा एजेंसियों के आला अधिकारियों के बीच आपस में पल-पल की सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए वैकल्पिक तौर पर दो कंट्रोल रूम भी बनाए जा रहे हैं। लालकिले व आसपास के पूरे इलाके को सीसीटीवी से लैस कर दिया जाएगा, ताकि किसी भी संदिग्ध व्यक्ति या वाहन पर पैनी नजर रखी जा सके। डॉग स्क्वॉड व बम स्क्वॉड की टीम हर कुछ घंटे पर इलाके की जांच-पड़ताल कर रहे हैं।

अलर्ट मोड पर सुरक्षा एजेंसियां

सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट मोड पर हैं। एक तरफ जहां सुरक्षा को लेकर तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं, वहीं दूसरी तरफ लगातार इंटेलिजेंस यूनिट के साथ समन्वय बनाकर संदिग्ध लोगों व उनकी संदिग्ध हरकतों पर नजर रखी जा रही है। इसमें विशेष रूप से ड्रोन हमले की आशंका के मद्देनजर पूरी सावधानी बरती जा रही है और हवा में उड़ने वाली चीजों पर सुरक्षा कर्मियों की पैनी नजर है।

पैरा-ग्लाइडर, पैरा-मोटर्स, हैंग ग्लाइडर, यूएवी, यूएएस, माइक्रोलाइट एयरक्राफ्ट, रिमोट से चलने वाले विमान, हॉट एयर बैलून, छोटे आकार के बैटरी से चलने वाले एयरक्राफ्ट, क्वाडॉप्टर्स और पैरा जंपिंग उड़ान पर पैनी नजर रखी जा रही है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button