“मिडिया, साहित्य एवं संस्कृति की नई चुनौतियां” विषय पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन

वियतनाम एवं कम्बोडिया में होगा जून के प्रथम सप्ताह में आयोजन।

– मनराखन ठाकुर

पिथौरा: हिन्दी विभाग, मणीबेन नानावटी महिला महाविद्यालय, मुम्बई एवं लिंकन युनिवर्सिटी, मलेशिया के संयुक्त तत्वावधान में मानविकी एवं समाज विज्ञान का चतुर्थ अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन 02 से 06 जून 2019 तक वियतनाम-कम्बोडिया में आयोजित किया गया है।

रविन्द्र कात्यायन, संजय गौड, सुधीर शर्मा आदि के संयोजकत्व में इस अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में ‘मिडिया, साहित्य एवं संस्कृति की नई चुनौतियां’ विषय पर मुख्य रूप से विचार विमर्श किया जाएगा। सम्मेलन के अंतर्गत वियतनाम में जहाँ ‘अंतर्राष्ट्रीय बहुभाषिक कवि सम्मेलन एवं कहानी पाठ’ आयोजित किया गया है वहीं कम्बोडिया में सम्मेलन के मूल विषय पर ‘व्याख्यान विएतनाम समीक्षा होगी।

इस सम्मेलन में रायपुर से डॉ मृणालिका ओझा, राजेंद्र ओझा, डॉ सुधीर शर्मा, तृषा शर्मा, शिखा दास, उधो प्रसाद साहू, डॉ मधुलिका अग्रवाल, उर्मिला उरमी युक्ता, अनूप कुमार दुबे, संध्या श्रीवास्तव आदि सम्मेलन में शामिल होने हेतु रवाना हो चुके हैं।

महासमुँद-पिथौरा से शिखा दास (वरिष्ठ पत्रकार /कवियत्री) भी प्रतिभागी बनकर शामिल । 2जून को शिखा दास वियतनाम कवि सम्मेलन में शिरकत करेंगी। वही मीडिया साहित्य सँस्कृति व चुनौतियाँ विषय पर 2500 शब्दों का अपने आलेख का पाठन कम्बोडिया में करेँगी(जो कि 1 माह पूर्व चयनित हुआ था इसी आयोजन के हेतु ) शिखा दास का आलेख मीडिया व समाज+ समाज विज्ञान मनोविज्ञान पर केंद्रित है।

3/4/5/6जून को कम्बोडिया में मीडिया साहित्य सँस्कृति व चुनौतियाँ के व्याख्यान माला में शिखा का व्याख्यान होगा। गौरतलब हैं कि शिखा दास एक छोटी सी पँचायत लाखागढ व तहसील पिथौरा से अपनी प्रतिभा व लेखनी के जरिए वियतनाम कम्बोडिया की धरती पर भारत से सरहद पार INTERNATIONAL CONFERENCE में प्रतिनिधित्व कर पिथौरा नगर सहित छग को गौरवान्वित कर रही हैं। इसके पूर्व शिखा दास श्री लँका/भूटान/नेपाल/माँरीशस/बैंकाक/ आदि देशों में अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में शिरकत सम्मान प्राप्त कर चुकी है।

Back to top button