अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस : 14 सालों में 6 प्रतिशत तक बढ़ी छत्तीसगढ़ की साक्षरता दर

रायपुर।

आज अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस है। इस मौके पर सीएम रमन सिंह ने प्रदेश को लोगों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए बताया कि केंद्र और राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं से छत्तीसगढ़ की साक्षरता दर 14 सालों में 65.18 प्रतिशत से बढ़कर 71.04 प्रतिशत हो गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 15 सालों में छत्तीसगढ़ में साक्षरता का स्तर काफी ऊपर उठा है। यह बदलाव केंद्र और राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं और उसके राज्य में उसके सही तरह से क्रियान्वयन होने की वजह से हुआ है। जिससे नई पीढ़ी के लिए शिक्षा के व्यापक अवसर विकसित हुए है।

सरस्वती साइकिल योजना ने भी बढ़ाया स्तर

मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार की सरस्वती साइकिल योजना से हाईस्कूलों में बालिकाओं की दर्ज संख्या 65 प्रतिशत से बढ़कर लगभग 95 प्रतिशत तक पहुंच गई है। अनेक हाई स्कूलों में बालकों की तुलना में बालिकाओं की संख्या अधिक हो गई है। इससे यह स्पष्ट होता है कि प्रधानमंत्री मोदी ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का जो अभियान चलाया है। वह छत्तीसगढ़ में तेजी से साकार हो रहा है।

यहां से शुरू हुआ अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस मनाना

सबसे पहले यूनेस्को ने 17 नवम्बर 1965 को पूरी दुनिया में आठ सितम्बर के दिन साक्षरता दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी। जिसे पहली बार 1966 में मनाया गया । तब से ही इसे पूरी दुनिया में आज के दिन मनाया जाने लगा।

Tags
Back to top button