स्वयंभू बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के नाम पर इंटरपोल ने जारी की रेड कॉर्नर नोटिस

पुलिस ने नाबालिग लड़कियों को बंदी बनाकर यौन शोषण करने वाले स्वयंभू के ऊपर पांच लाख का इनाम भी घोषित किया

नई दिल्ली:इंटरपोल ने वीरेंद्र देव दीक्षित के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है। वीरेंद्र दीक्षित एक स्वयंभू बाबा है, जिस पर दिल्ली के रोहिणी इलाके में स्थित आश्रम में लड़कियों के साथ यौन शोषण का आरोप है।

बाबा का ये आश्रम किसी किले से कम नहीं था, जहां पर वो अपनी काली करतूतों को अंजाम देता था। लंबे वक्त से दिल्ली पुलिस उसकी तलाश कर रही है, लेकिन अभी तक पाखंडी बाबा का पता नहीं चल पाया।

पुलिस ने उसके ऊपर पांच लाख का इनाम भी घोषित किया है। सीबीआई ने अब इस शातिर को पकड़ने के लिए इंटरपोल की मदद ली है। दिल्ली पुलिस के पास जून 2017 में दो शिकायतें आईं थीं जिनमें बाबा के काले कारनामों का जिक्र था। बाबा ने रोहिणी इलाके में किलानुमा एक आश्रम बना रखा था जहां वह नाबालिग लड़कियों को बंदी बनाकर रखता था।

शिकायतकर्ता ने उत्तरी दिल्ली के वियज विहार इलाके में स्थित आध्यात्मिक विश्वविद्यालय में अपने साथ हुए यौन शोषण का मामला पुलिस अधिकारियों को बताया। दिल्ली पुलिस ने जांच के बाद स्वयंभू बाबा के वीरेंद्र दीक्षित के खिलाफ तीन एफआईआर दर्ज कीं। उधर कार्रवाई की भनक लगते ही वीरेंद्र दीक्षित फरार हो गया। पुलिस ने उसे कई राज्यों में तलाशा लेकिन उसका कोई पता नहीं चला।

खबर देने वाले को पांच लाख का इनाम

दिल्ली पुलिस ने वीरेंद्र दीक्षित की खबर देने वाले को पांच लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा की है। इसके जानकारी पुलिस को 011-24368657 पर फोन कर और [email protected] पर ईमेल के जरिये दी जा सकती है। जानकारी देने वाला का नाम गुप्त रखा जाएगा।

2018 में भी जारी हुआ था लुकआउट सर्कुलर

सीबीआई ने इससे पहले फरवरी 2018 में भी वीरेंद्र दीक्षित के खिलाफ एक लुकआउट सर्कुलर जारी किया था। पिछले साल दिसंबर में दिल्ली पुलिस ने महिला आयोग के साथ वीरेंद्र देव के आश्रम में छापा मारा था। साथ ही वहां से 40 लड़कियों को छुड़वाया था। उस दौरान कुछ अभिभावकों ने पुलिस के पास शिकायत की थी कि आश्रम में उनकी नाबालिग लड़कियों को जबरन रखा गया है।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button