PPF में हर महीने 1000 रुपये करें निवेश, मिलेंगे 12 लाख रुपये, जानिए पूरी स्कीम

PPF: अगर आप किसी बेहतर निवेश की तलाश में हैं जहां किसी भी प्रकार का कोई रिस्क न हो तो आपके लिए पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) एक बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है।

PPF में निवेश करने पर रिस्क बिल्कुल भी नहीं है। इसकी वजह ये है कि इसे पूरी तरह से सरकार से संरक्षण मिला हुआ है। इसमें निवेश करने से आपको अच्छआ मुनाफा भी मिल सकता है। बस आपको जरूरत है कि आप सावधानी पूर्वक निवेश करें।

लंबी अवधि में निवेश कर PPF से बेहतर रिटर्न हासिल किया जा सकता है। सिर्फ 1000 रुपये हर महीने जमा करके 12 लाख रुपये से ज्यादा रुपये मिल सकते हैं। इसकी शुरुआत 1968 में राष्ट्रीय बचत संगठन ने एक छोटी बचत के रूप में की गई थी।
जानिए कितनी मिलेगी ब्याज

केंद्र सरकार हर तिमाही में PPF अकाउंट पर मिलने वाली ब्याज दर में बदलाव करती है। ब्याज दर आमतौर पर 7 फीसदी से 8 फीसदी रहती है जो कि आर्थिक स्थिति को देखते हुए थोड़ी कम या बढ़ सकती है। मौजूदा समय में ब्याज दर 7.1 फीसदी है, जो सालाना तौर पर चक्रवृद्धि है। यह कई बैंकों की फिक्स्ड डिपॉजिट से ज्यादा है।
PPF अकाउंट में आप कम से कम 500 रुपये और अधिक से अधिक 1.5 लाख रुपये हर साल निवेश कर सकते हैं। इसका मैच्योरिटी पीरियड 15 साल का होता है। इसके बाद आप इन पैसों को निकाल सकते हैं या फिर हर 5 साल के लिए आगे बढ़ा सकते हैं।
जानिए पूरी स्कीम का हिसाब-किताब

अगर आप PPF अकाउंट में हर महीने 1000 रु जमा करते हैं तो 15 साल में आपकी निवेश राशि 1.80 लख रुपये होगी। इस पर 1.45 लाख रुपये ब्याज मिलेगा। यानी मैच्योरिटी के बाद आपको कुल 3.25 लाख रुपये मिलेंगे। अब अगर आप 5 साल और PPF अकाउंट को बढ़ाते हैं और हर महीने 1000 रु का निवेश जारी रखते हैं तो आपकी कुल निवेश राशि 2.40 लाख रुपये हो जाएगी। इस रकम पर 2.92 लाख रुपये का ब्याज मिलेगा। इस तरह मैच्योरिटी के बाद आपको 5.32 लाख रुपये मिलेंगे।

अगर आप 15 साल की मैच्योरिटी अवधि पूरी हो जाने के बाद इसे तीन बार 5-5 साल के लिए बढ़ाते हैं (कुल तीस साल) और हर महीने 1000 रुपये का निवेश जारी रखते हैं तो आपके द्वारा कुल निवेश की गई रकम 3.60 लाख रुपये हो जाएगी। इस पर 8.76 लाख रुपये ब्याज मिलेगी। इस तरह मैच्योरिटी पर कुल 12.36 लाख रुपये मिल जाएंगे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button