राजस्थान व हैदराबाद के मुकाबले में ये हो सकती है दोनों की प्लेइंग इलेवन!

हैदराबाद : आइपीएल-12 के अपने शुरुआती मैच में ‘मांकडि़ड’ का शिकार हुई राजस्थान रॉयल्स की टीम इस विवाद को पीछे छोड़ने के इरादे के साथ शुक्रवार को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ खेलने उतरेगी। सनराइजर्स हैदराबाद भी अपने पहले मैच में कोलकाता नाइटराइडर्स (केकेआर) से मिली हार को भुलाकर जीत के साथ टूर्नामेंट में वापसी करना चाहेगी। ऐसे में राजस्थान और हैदराबाद दोनों ही टीमें इस सत्र में अपनी पहली जीत दर्ज करने के इरादे से उतरेंगी।

टूर्नामेंट में राजस्थान का सफर विवादित तरीके से शुरू हुआ। उसके सलामी बल्लेबाज जोस बटलर आइपीएल के इतिहास में ‘मांकडि़ड’ के शिकार होने वाले पहले बल्लेबाज बने, जब किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान आर अश्विन ने यहां मैच के दौरान विवादित ढंग से उन्हें आउट किया। राजस्थान की टीम जीत के लिए 185 रन का पीछा कर रही थी और बटलर उस समय 43 गेंद में 69 रन बनाकर खेल रहे थे, जब अश्विन ने उन्हें चेतावनी दिए बिना मांकडि़ड से आउट किया। बटलर के आउट होते ही मैच का रुख बदल गया और किंग्स इलेवन पंजाब ने इस मुकाबले को 14 रन से जीत लिया। सलामी बल्लेबाज के तौर पर बटलर शानदार लय में दिखे, लेकिन वह बल्लेबाजी विभाग में अजिंक्य रहाणे, संजू सैमसन, स्टीव स्मिथ और बेन स्टोक्स से और अधिक मदद की उम्मीद करेंगे। खासकर स्मिथ से, जो गेंद से छेड़छाड़ विवाद के कारण आइपीएल के पिछले सत्र में नहीं खेल पाए थे। स्मिथ खुद भी आगामी वनडे विश्व कप से पहले क्रीज पर अधिक समय बिताना चाहेंगे। धवल कुलकर्णी और स्पिनर कृष्णप्पा गौतम ने किंग्स इलेवन के खिलाफ शानदार गेंदबाजी की, लेकिन बेन स्टोक्स और जयदेव उनादकट ने काफी रन लुटाए। तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर ने चार ओवरों में सिर्फ 17 रन दिए। वह खतरनाक दिख रहे थे, लेकिन विकेट नहीं चटका सके।

राजस्थान की तरह ही सनराइजर्स की टीम भी अपने अभियान की शुरुआत मन मुताबिक नहीं कर सकी। उसे सत्र के पहले मैच में केकेआर के हाथों छह विकेट से शिकस्त मिली। डेविड वार्नर की मौजूदगी में सनराइजर्स की बल्लेबाजी मजबूत दिख रही थी, लेकिन अंतिम के ओवरों में खराब गेंदबाजी के कारण टीम ने केकेआर के खिलाफ मैच गंवा दिया। गेंद से छेड़छाड़ के कारण एक साल के प्रतिबंध के बाद प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी करने के बाद वार्नर फॉर्म में हैं, जिन्होंने केकेआर के खिलाफ 53 गेंदों पर 85 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली। सनराइजर्स को पता है कि कप्तान केन विलियमसन, जॉनी बेयरस्टो, विजय शंकर, मनीष पांडे, यूसुफ पठान और शाकिब अल हसन जैसे बल्लेबाजों की मौजूदगी के बाद भी टीम की सफलता काफी हद तक वार्नर की सफलता पर निर्भर करेगी।

भुवनेश्वर कुमार की अगुआई में सनराइजर्स की गेंदबाजी इकाई ने रविवार को मैच के अधिकांश भाग में अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन आखिरी तीन ओवरों में आंद्रे रसेल की तूफानी पारी ने उन्हें जीत से दूर कर दिया। केकेआर को जीत के लिए अंतिम तीन ओवरों में 53 रनों की जरूरत थी। रसेल ने भुवनेश्वर और सिद्धार्थ कौल की गेंदों पर बड़े शॉट खेले। इसके बाद शाकिब के अंतिम ओवर में युवा शुभमन गिल ने करारे प्रहार कर सनराइजर्स को जीत दर्ज करने से रोक दिया। भवुनेश्वर और राशिद खान की अगुआई में टीम राजस्थान के खिलाफ अंतिम ओवरों में बेहतर गेंदबाजी करना चाहेगी।

Back to top button