एनटीपीसी के श्रेष्ठ प्रदर्शनवाले परियोजनाओं को पुरस्कार के साथ आईपीएस-2019 का समापन

रायपुर: एनटीपीसी व्यावसायिक उत्कृष्ठता सम्मान 2018-2019 रायपुर में आयोजित अंतराष्ट्रीय प्रचालन एवं अनुरक्षण सम्मेलन अीईपीएस 2019 में दिनांक 14 फरवरी को प्रदान किया गया। इस वर्ष एनटीपीसी के 21 उत्पादनकारी स्टेशनों को व्यवसायीक उत्कृष्ठता माॅडेल के अंतर्गत जांचा गया एवं पुरस्कृत किया गया।

व्यावसायिक उत्कृष्ठता के सभी पैमाने पर उत्कृष्ठ प्रदर्शन करते हुए देश का सबसे बडा विद्युत गुह एनटीपीसी के विन्ध्याचल परियोजना प्रथम पुरस्कार प्रप्त किया। वहीं एनटीपीसी के सीपत एवं रीहन्द को संयुक्त रुप से द्वितीय पुरस्कार प्रदान किया गया एवं एनटीपीसी फरिदावाद तुतीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। साथ ही एनटीपीसी सिंगरौली को सर्वाधिक डेल्टा सुधार के लिए प्रोत्साहन पुरस्कार एनटीपीसी के निदेशकगण सप्तर्षि राय, निदेशक (मानव संसाधन एवं वित्त), प्रकाश तिवारी, निदेशक (प्रचालन), प्रशांत कुमार महापात्र, निदेशक (तकनीकी) द्वारा परियोजना प्रमुख एवं क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशकों को प्रदान किया गया।

अंतराष्ट्रीय प्रचालन एवं अनुरक्षण सम्मेलन अीईपीएस 2019 में विद्युत क्षेत्र से जुडे 11 अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रों के साथ कुल 82 पत्रों का प्रस्तुत किया गया । पहले दिन अर्थात 13 फरवरी 2019 को, मुख्‍य विषय के सत्र के अलावा, विभिन्न सत्र विद्युत प्रणाली में फ्लेक्सिबिलेशन और चुनौतियां, सुरक्षा और पर्यावरण प्रबंधन, स्टीम टरबाइन, स्टीम जनरेटर और सहायक उपकरण, विद्युत प्रणाली, नियंत्रण और इंस्ट्रूमेंटेशन, अभिनव प्रचालन व्‍यवहारों पर विभिन्‍न सत्रों का आयोजन किया गया था। 14 फरवरी, 2019 को दक्षता और ऊर्जा संरक्षण, नवीकरणीय ऊर्जा और परिसंपत्ति प्रबंधन, जल विद्युत उत्‍पादन, रसायनशास्‍त्र, ईंधन और ऐश प्रबंधन, कूलिंग टॉवर और जल प्रबंधन पर सत्र आयोजित किए गए थे।

ईपीआरआई, अमेरीका ने टर्बाइन जेनरेटर टॉर्सनल वाइब्रेशन फंडामेंटल पर पेपर प्रस्तुत किया। अमेरीका के बेंटले ने ब्राउनफील्ड स्टेशनों के डिजिटलीकरण का वर्णन किया। इंटरटेक, यूएसए ने लचीले प्रचालन और इसके प्रभाव की वास्तविक समय की भविष्यवाणी के बारे में ज्ञान साझा किया। जेसीओएएल, जापान ने जल शोधन और पुन: उपयोग के साथ-साथ वायु गुणवत्ता में सुधार के लिए जैव मास द्रव्यमान उपयोग पर पेपर प्रस्तुत किया। सीईए द्वारा जल विद्युत जलाशय में तलछट प्रबंधन पर पेपर प्रस्तुत किया गया था। शोध पत्रों की प्रस्तुति के माध्यम से आत्मसात किए गए ज्ञान को सम्मेलन की सिफारिशों के कार्यान्वयन के रूप में व्यवहार में लाया जाता है।

Back to top button