IPS आरिफ ने तोड़ा बद्री मीणा का रिकार्ड, 8 जिलों का SP रहने का देश में बनाया नया कीर्तिमान

आलोक मिश्रा

रायपुर/ बलौदाबाजार: रायपुर के नये पुलिस कप्तान आरिफ हुसैन शेख नेअपना पदभार संभाल लिया। 2005 बैच के आईपीएस आरिफ ने रायपुर एसपी का चार्ज लेते ही न केवल बद्री नारायण मीणा का सात जिलों के एसपी रहने का रिकार्ड तोड़ दिया। बल्कि, रायपुर के रूप में आठवें जिले का पुलिस अधीक्षक बनकर देश में एक नया कीर्तिमान बनाया। देश में अभी सात जिलों के एसपी रहने के दृष्टांत मिलते हैं….बद्री मीणा तो छत्तीसगढ़ कैडर के ही थे। मगर किसी आईपीएस के आठ जिलों की कप्तानी करने की कोई जानकारी नहीं है। बद्री अभी सेंट्रल डेपुटेशन पर हैं।

कल राता आदेश निकलने के बाद आज एसपी दफ्तर पहुंचकर आरिफ ने नीतू कमल से चार्ज लिया। सोमवार की देर रात राज्य सरकार ने 10 आईपीएस अफसरों के ट्रांसफर किये थे। उसमें आरिफ शेख को नक्सल इंटेलिजेंस पीएचक्यू से रायपुर एसपी बनाया गया है। वहीं, रायपुर एसपी नीतू कमल को बलौदाबाजार भेजा गया है।

बहरहाल, आरिफ के नाम सर्वाधिक जिलों के एसपी बनने का कीर्तिमान दर्ज हो गया है। गरियाबंद जिले से उन्होंने कप्तानी की शुरूआत की थी। इसके बाद वे धमतरी, जांजगीर, बालोद, बलौदाबाजार, बस्तर व फिर बिलासपुर के पुलिस अधीक्षक रहे। दिसंबर में जब सरकार बदली तो आरिफ को बिलासपुर से पीएचक्यू भेजा गया था, लेकिन दो महीने के भीतर ही उन्हें राजधानी की कमान सौंप दी गई।

हालांकि, दिसंबर में बिलासपुर से उन्हें रायपुर का एसपी बनने की चर्चा काफी पहले से थी, लेकिन इसी बीच अचानक उनका तबादला पीएचक्यू कर दिया गया। लेकिन दो महीने के भीतर ही उन्हें रायपुर की कमान दी गयी है। बालोद, बिलासपुर जिले के एसपी रहने के दौरान आरिफ ने सोशल पोलिसिंग में कई उल्लेखनीय काम किए। इसके एवज में उन्हें कई नेशनल और इंटरनेशनल अवार्ड हासिल हुए।

आरिफ के लिए राजधानी में पुलिसिंग की कमान उस वक्त मिली है, जब राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ी हुई है और सराफा व्यापारी को गोली मारने के बाद पुलिस सवालों में घिरी हुई है। आरिफ की पत्नी शम्मी आबिदी 2007 बैच की आईएएस हैं। वे फिलहाल कमिश्नर हाउसिंग बोर्ड हैं।

Back to top button