ईरानी ने यमन के हूती विद्रोहियों को दी बैलेस्टिक मिसाइल

रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि तेहरान यमन के हूती विद्रोहियों को बैलेस्टिक मिसाइल मुहैया नहीं कराने वाले आदेश पर कायम नहीं रहा है

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत निक्की हेली ने शुक्रवार (16 फरवरी) को कहा कि यमन में हथियारों पर प्रतिबंध का ईरान की ओर से उल्लंघन करने के संयुक्त राष्ट्र विशेषज्ञ की रिपोर्ट के खुलासे के बाद अब वक्त आ गया है कि सुरक्षा परिषद इस पर कार्रवाई करे. रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि तेहरान यमन के हूती विद्रोहियों को बैलेस्टिक मिसाइल मुहैया नहीं कराने वाले आदेश पर कायम नहीं रहा है. निक्की ने एक बयान में कहा,इस रिपोर्ट में उन बातों का उल्लेख किया गया जिन्हें हम महीनों से कहते आ रहे हैं कि ईरान सुरक्षा परिषद के अनेक प्रस्तावों का उल्लंघन करके अवैध तरीके से हथियार मुहैया करा रहा है

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

उन्होंने कहा, वहीं ईरान ने हुती विद्रोहियों को हथियार मुहैया कराने के आरोपों से इनकार किया और निक्की पर इस बात के फर्जी साक्ष्य पेश करने के अरोप लगाए कि चार नवंबर को रियाद हवाई अड्डे पर दागी गई मिसाइल ईरान निर्मित है.

लेबनान में मिसाइलों का जखीरा इकट्ठा कर रहा है ईरान : नेतन्याहू
इससे पहले बीते 29 जनवरी को इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामीन नेतन्याहू ने ईरान को निशाने पर लेते हुए चेतावनी दी थी कि लेबनान में मिसाइलों का जखीरा इकट्ठा करने से वह बाज आए. उन्होंने कहा था कि इजरायल अपने उत्तरी पड़ोसी के जमीन पर ईरान के पैर जमाने का ‘कड़ाई’ से विरोध करता है और कहा कि इजरायल इसके खिलाफ ‘कार्रवाई कर रहा है.’ उन्होंने हालांकि यह नहीं बताया कि इजरायल किस तरह की कार्रवाई कर रहा है. नेतन्याहू ने ईरान पर ‘लेबनान को विशाल मिसाइल स्थल’ बनाने का प्रयास करने का भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा, “ईरान, इजरायल के खिलाफ लेबनान में मिसाइल इकट्ठा कर रहा है. हम इसे नहीं सहेंगे.”

new jindal advt tree advt
Back to top button