पहली महिला टूरिस्ट बनकर अंतरिक्ष में पहुंची ईरान की अनुशेह अंसारी, खर्च किए 146 करोड़ रुपये

अनुशेह अंसारी (Anousheh Ansari) बचपन में जब कभी किसी मुश्किल में पड़ जातीं, तब वो खुले आसमान में बिखरे सितारों को निहारा करती थीं. उनका सपना था कि एक दिन वो अंतरिक्ष की यात्रा करें और वहां की खूबसूरती को नजदीक से महसूस करें. जैसा सपना उन्होंने अपनी ख्वाहिशों के लिए देखा था, वो सच हुआ. ईरानी-अमेरिकी टेलिकम्युनिकेशन उद्यमी और डलास की करोड़पति अनुशेह अंसारी अंतरिक्ष में जाने वाली पहली मुस्लिम महिला और पहली ईरानी बनीं. उन्होंने 2006 में अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (International Space Station) तक खुद पैसे खर्च कर उड़ान भरी थी.

अनुशेह ने अपनी इस यात्रा के लिए टोटल 20 मिलियन अमेरिकी डॉलर यानी लगभग 146 करोड़ रुपये खर्च किए थे. यह राशि उन्होंने सिर्फ 10 दिनों के स्पेस टूर के लिए खर्च किए थे. अनुशेह 10 दिनों तक अंतरिक्ष में रहीं थीं. 1960 के दशक में ईरान में एक सामान्य परिवार में जन्मी अनुशेह 16 साल की उम्र में अमेरिका चली गईं थीं. जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी (George Washington University) से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में मास्टर डिग्री लेने तक उन्होंने अपना पूरा ध्यान सिर्फ पढ़ाई पर लगाया. उन्होंने इंटरनेशनल स्पेस यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट की उपाधि ली और बाद में स्वाइनबर्न विश्वविद्यालय (Swinburne University) से एस्ट्रोनॉमी में मास्टर डिग्री प्राप्त की.

अपने फंड से की थी अंतरिक्ष यात्रा

1993 में अनुशेह अंसारी, उनके पति हामिद अंसारी और उनके बहनोई अमीर के साथ मिलकर टेलिकम्युनिकेशन बिजनेस में कदम रखा. इन्होंने मिलकर टेलिकम्युनिकेशन कंपनी को खड़ा किया था. साल 2006 में अनुशेह ने इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (ISS) में 10 दिनों के लिए अंतरिक्ष में यात्रा की. वह पहली अंतरिक्ष पर्यटक हैं, जो अपने फंड से अंतरिक्ष यात्रा पर गईं. उसी समय, उन्होंने कंपनी ‘प्रोडिया सिस्टम्स’ बनाई, जो इंटरनेट ऑफ थिंग्स (Internet of Things) की बदौलत इंटेलिजेंस सर्विस डेवलप करती है.

18 सितंबर 2006 को अंतरिक्ष यान अटलांटिस ने कजाकिस्तान के बैकोनौर कोस्मोड्रोम से उड़ान भरी थी. यह अनुशेह अंसारी की 10-दिवसीय इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की उड़ान की शुरुआत थी. अनुशेह की यात्रा रोमांच से भरी थी. उड़ान भरने के चौबीस घंटे बाद उन्होंने अंतरिक्ष में यात्रियों को होने वाली परेशानियों को महसूस किया. पीठ के निचले हिस्से में दर्द, भारी सिरदर्द और पेट में दर्द जैसी तकलीफें उन्हें महसूस होने लगी. हालांकि अपना स्पेस सूट उतारने के बाद उन्होंने बेहतर और खुश महसूस किया.

अंतरिक्ष के अपने अनुभवों पर लिखी किताब

अनुशेह अंसारी ने यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (European Space Agency) के लिए कई वैज्ञानिक प्रयोगों में भी हिस्सा लिया था, जिसका उद्देश्य मानव शरीर पर अंतरिक्ष यात्रा के दौरान पड़ने वाले प्रभावों का पता लगाना था. अनुशेह अंतरिक्ष से वेबलॉग भी पब्लिश करती थीं, ऐसा करने वाली भी वह पहली व्यक्ति हैं. अंतरिक्ष यात्रा के दौरान उन्होंने वहां देखा कि यहां लोग अपनी दिनचर्या कैसे बिताते हैं. अपने ब्लॉग पर उन्होंने अपनी यात्रा के बाद लोगों के कई सवालों के जवाब दिए, विशेष रूप से अंतरिक्ष में स्वच्छता के बारे में. जैसा कि पानी वहां तैरता है तो आप कैसे नहाती हैं? ब्रश कैसे करती हैं?

उन्होंने अपने जवाब में बताया कि गीले तौलिये का इस्तेमाल किया जाता है और तैरते पानी का भी इस्तेमाल किया जाता है. ऐसे ही कई सवालों का जवाब वो अंतरिक्ष से दिया करती थीं. इस ट्रिप के दौरान अनुशेह ने महसूस किया कि ट्रिप डेस्टिनेशन से ज्यादा महत्वपूर्ण होती है. अंतरिक्ष पर जाना अनुशेह की जिंदगी का सबसे बड़ा सपना था. उन्होंने अंतरिक्ष के अपने अनुभवों पर एक बुक ‘माई ड्रीम ऑफ स्टार्स’ भी लिखी है, जिसे जयपुर में आयोजित एक साहित्य सम्मेलन में लॉन्च किया गया था.

इतिहास में 25 सितंबर की तारीख में दर्ज कई ऐसी ही घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा:

1340: इंग्लैंड और फ्रांस ने निरस्त्रीकरण संधि पर हस्ताक्षर किये.

1654: इंग्लैंड और डेनमार्क ने व्यापार संधि पर हस्ताक्षर किये.

1914: पूर्व उप प्रधानमंत्री चौधरी देवी लाल का जन्म.

1916: विचारक, दार्शनिक और भारतीय जनसंघ के सह-संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जन्म.

1974: पांचवी पंचवर्षीय योजना पूर्ण हुई.

1974: अमेरिका ने नेवादा परीक्षण स्थल पर परमाणु परीक्षण किया.

1984: मिस्र और जॉर्डन के बीच राजनयिक संबंध फिर से बहाल हुए.

1985: अकाली दल ने पंजाब राज्य में चुनाव में जीत दर्ज की.

1992: चीन ने लोप नोर,पीआरसी में परमाणु परीक्षण किया.

1914: भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री चौधरी देवी लाल का जन्म हुआ.

1916: प्रसिद्ध भारतीय विचारक, दार्शनिक और भारतीय जनसंघ के सह-संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जन्म हुआ.

2008: चीन ने अंतरिक्ष यान ‘शेनझोओ 7’ को लॉन्च किया.

2018: महेंद्र सिंह धोनी दुबई में एशिया कप में अफगानिस्तान के खिलाफ मैच में भारतीय क्रिकेट टीम का नेतृत्व करके 200 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में कप्तानी करने वाले पहले भारतीय बने.

2020: मशहूर गायक एस. पी. बालासुब्रमण्यम का कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद निधन.

2020: राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग (एनएमसी) अस्तित्व में आया, भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद की जगह ली. इसे भारत के चिकित्सा शिक्षा संस्थानों और चिकित्सा पेशेवरों के नियमन के लिए नीतियां बनाने का अधिकार है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button