क्या चंद आड़ी काली धारियां गधे को जेब्रा बना सकती हैं?

काहिरा चिड़ियाघर प्रशासन को लगा, ऐसा हो सकता है

काहिरा।

एक चुटकुला प्रचलित हुआ करता था कि एक चिड़ियाघर में दो शेरों के बीच जबर्दस्त दोस्ती हो गई। जब दोनों ने एक दिन दिल की बातें कीं तो पता चला कि एक भौतिकी शास्त्र विषय में स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी कर चुका था तो दूसरा गणितज्ञ था। इसी प्रकार का एक मामला मिस्र के काहिरा स्थित एक चिड़ियाघर में भी सामने आया है।

मिस्र की राजधानी काहिरा में एक चिड़ियाघर के कर्मचारियों ने काले और सफेद रंग से पेंट कर गधे को जेब्रा बना दिया। कर्मचारियों ने पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के लिए गधे को रंग कर उसके ऊपर काली-सफेद धारियां बना दीं।

कर्मचारियों की स्कीम काम भी कर गई। लोग पेंट किए हुए गधे को जेब्रा ही समझ रहे थे, लेकिन एक छात्र ने चिड़ियाघर के कर्मचारियों की इस चालाकी को पकड़ ली और उसने रंगे हुए गधे की फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दीं।

काहिरा में रहने वाले 21 साल के महमूद-ए-सराहनी 21 जुलाई को इंटरनेशनल गार्डन पार्क घूमने गए थे। जू में घूमने के दौरान महमूद को काले-सफेद धारियों वाला एक जानवर दिखा। लोग उस जानवर को जेब्रा बता रहे थे। जब महमूद ने उसका कान देखा तो उसे शक हुआ।

ध्यान से देखने पर महमूद को समझ आ गया कि चिड़ियाघर के कर्मचारियों ने क्या किया है। वो समझ गए कि गधे पर जेब्रा जैसा पेंट किया है। इसके बाद महमूद ने इसकी एक फोटो फेसबुक पर डाल दी, जो वायरल हो गई। लोगों ने चिड़ियाघर की इस हरकत पर आपत्ति जताई और उसका मजाक उड़ाया।

लोगों ने मजाकिया ढंग से लिखा कि चिड़ियाघर प्रशासन की कलात्मकता को धन्यवाद। वहीं चिड़ियाघर प्रशासन अपनी गलती मानने को तैयार नहीं हैं। उनका कहना है कि जानवर से कोई छेड़छाड़ नहीं की गई।

Back to top button