गौतम गंभीर ने लिया बड़ा फैसला, ईशांत शर्मा ने ली उनकी जगह

अनुभवी सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने शुक्रवार को दिल्ली रणजी टीम की कप्तानी छोड़ दी और तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा को आने वाले रणजी ट्रॉफी सीजन के लिए कप्तान चुना गया।

36 वर्षीय गंभीर ने पिछले चार रणजी ट्रॉफी सीजन में दिल्ली की कप्तानी संभाली थी, उन्होंने बतौर खिलाड़ी जारी रहने और कप्तानी छोड़ने की इच्छा व्यक्त की। डीडीसीए के वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा, ‘हां, गंभीर ने डीडीसीए प्रशासक विक्रमजीत सेन, चयन समिति अध्यक्ष अतुल वासन और क्रिकेट मामलों की समिति (सीएसी) के चेयरमैन मदन लाल को संबोधित करते हुए अपने फैसले के बारे में सूचना दी। उन्होंने स्पष्ट किया कि किसी अन्य के लिए कप्तानी संभालने के लिए सही समय है क्योंकि वो सिर्फ खिलाड़ी के तौर पर खेलना चाहते हैं।’

गंभीर को विजय हजारे ट्रॉफी के पिछले सीजन के दौरान कप्तानी से हटा दिया गया था और युवा ऋषभ पंत को ये जिम्मेदारी सौंपी गई थी। दिल्ली ग्रुप लीग से ही बाहर हो गई थी और उसके अभियान को सबसे ज्यादा नुकसान गंभीर और कोच केपी भास्कर के बीच तीखी तकरार से हुआ था।

अनुशासनात्मक समिति ने गंभीर को सजा भी सुनाई थी और उन्हें चार मैचों के लिए निलंबित कर दिया गया था। प्रदर्शन नहीं दिखाने के बावजूद भास्कर को कोच बरकरार रखा गया, जिससे गंभीर का कप्तान बने रहना मुश्किल ही होता क्योंकि टीम की नीतियों के संबंध में दोनों के विचार विपरीत हैं। ईशांत के चयन के बारे में अधिकारी ने कहा, ‘ईशांत ने 77 टेस्ट मैच खेले हैं और अब उनके सीमित ओवरों के मैचों के लिए चुने जाने की संभावना कम है तो वो सभी ग्रुप लीग के मैचों में उपलब्ध रहेंगे।’

उन्होंने कहा, ‘ऋषभ पंत की भारत-ए की प्रतिबद्धताए हैं और उन्मुक्त चंद के भी कई खराब सीजन रहे हैं, इसलिए कप्तानी के लिए उन्हें नहीं चुना जा सकता था।’ टीम में कई हैरानी भरे नाम भी हैं जिसमें कुणाल चंदेला को विज्जी ट्रॉफी में उत्तरी क्षेत्र में तिहरे शतक के आधार पर चुना गया था।

टीम इस प्रकार है: ईशांत शर्मा (कप्तान), गौतम गंभीर, उन्मुक्त चंद, नीतीश राणा, ध्रुव शौरी, मिलिंद कुमार, हिम्मत सिंह, कुणाल चंदेला, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), मनन शर्मा, विकास शर्मा, पुलकित नारंग, नवदीप सैनी, विकास टोकस और कुलवंत खेजरोलिया।

Back to top button