पाकिस्तान के बाकी हिस्सों की तरह ही घपलेबाजी और भ्रष्टाचार की शिकार है आइएसआइ

एक नई किताब द नाइन लाइव्स ऑफ पाकिस्तान में किया गया यह दावा

इस्लामाबाद: न्यूयॉर्क टाइम्स के काइरो ब्यूरो प्रमुख डेक्कन वाल्श द्वारा लिखी गई एक नई किताब द नाइन लाइव्स ऑफ पाकिस्तान में यह दावा किया गया है कि पाकिस्तान की जासूसी एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आइएसआइ) पाकिस्तान के बाकी हिस्सों की तरह ही घपलेबाजी और भ्रष्टाचार की शिकार है।

उन्होंने पहले गाíडयन और फिर द टाइम्स के अंतरराष्ट्रीय संवाददाता के रूप में नौ साल तक पाकिस्तान को कवर किया। फिर उन्हें देश से बाहर निकाल दिया गया।

वाल्स कहते हैं कि हाल के दशकों में आइएसआइ नेतृत्व ने अनुमान लगाने में बड़ी गलतियां की हैं, जिनका गंभीर अंजाम न सिर्फ पाकिस्तान बल्कि खुफिया एजेंसी को भी भुगतना पड़ेगा। पुस्तक में कहा गया है कि आइएसआइ भय का इस्तेमाल हथियार के तौर पर करती है।

आइएसआइ अपनी प्रतिष्ठा को सर्वशक्तिमान बल के रूप में स्थापित करने के लिए बहुत कम काम करती है। इसके खतरनाक एजेंसी होने की बात गलत है। इसकी क्षमताओं को अक्सर कम करके आंका जाता है।

हालांकि, यह सड़क स्तर पर प्रभावी है और पश्चिमी जासूसी एजेंसियों द्वारा अपने भारतीय प्रतिद्वंद्वी रॉ से बेहतर एजेंसी के रूप में देखी जाती है। फिर भी यह सीआइए या ब्रिटेन की एमआइ-6 की तरह पेशेवर नहीं है।

किताब में कहा गया है कि सेना के जो अधिकारी इस एजेंसी का संचालन करते हैं, कुछ वर्षों में उन्हें अन्य शाखाओं में भेज दिया जाता है। जहां तक विश्लेषण की बात है, इसका रिकॉर्ड कमजोर है। वे लोग हर चीज को निश्चित विचारधारा के चश्मे से देखते हैं।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button