ISIS ने रमजान में इराक के मोसुल मस्जिद को उड़ाया

दुनिया के खूंखार आतंकी संगठन ISIS ने रमजान के महीने में ऐतिहासिक ग्रैंड अल-नूरी मस्जिद को उड़ा दिया है. अमेरिका और इराक ने इसकी जानकारी दी है. हालांकि ISIS ने इस मस्जिद को नेस्तनाबूद करने का आरोप अमेरिकी लड़ाकू विमानों पर लगाया है, लेकिन अमेरिकी अधिकारियों ने इससे इनकार किया है. सीरिया के मोसुल स्थित इसी मशहूर मस्जिद से ISIS के सरगना अबु बक्र अल बगदादी ने चार जुलाई 2014 को ‘खिलाफत’ का ऐलान किया था यानी यहीं पर आतंकी संगठन ISIS का जन्म हुआ था.

इराक के प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी ने कहा कि ISIS का यह कारनामा उसकी हार को दर्शाता है. इसमें मस्जिद की मीनार पूरी तरह नष्ट हो गई है. इराक के सैन्य कमांडरों का कहना है कि सुरक्षा बलों से घिरने के बाद आतंकियों ने मस्जिद को उड़ा दिया. मोसुल ISIS का गढ़ है, जहां पर आतंकी संगठन और सुरक्षा बलों के बीच जबरदस्त संघर्ष देखने को मिला है. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक बगदादी ने पहली और आखिरी बार इसी मस्जिद में सार्वजनिक रूप से लोगों को संबोधित किया था. ISIS ज्वाइन करने से इनकार करने पर करीब एक महीने पहले मस्जिद के इमाम की हत्या कर दी गई थी.

Back to top button